बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो

छवि स्रोत,एक्स बीएफ फिल्म वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़की को चोदना: बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो, मेरा नाम शिवानी (बदला हुआ नाम) है, मेरा 34-30-36 का साइज़ बड़ा ही मादक है। मैं मथुरा से हूँ… अपने बारे में मैं ज्यादा तो नहीं कहती, पर हाँ इतना जरूर कहूँगी कि जो लड़का एक बार मुझे देख ले.

बीएफ वीडियो भाई बहन की

‘ओह गॉड! तो उसको पीछे से चोदना था इसलिए मुझे ऐसा खड़ा किया है!’उसने पीछे से एक जोर का धक्का दिया, वैसे मैं दर्द से चिल्ला उठी- आऽऽऽह…मैं अपना पूरा मुँह खोल कर चिल्लाई पर उस पर कोई असर नहीं हुआ. गुजराती भाभी के बीएफमैंने चाची की साड़ी ब्लाउज पेटीकोट सब उतार दिया। अब वो केवल ब्रा-पेंटी पर आ गई थीं। उनके तने हुए मम्मों को देखते ही मेरा लंड फिर से उफान खाने लगा।चाची ने देखा कि मेरा लंड बहुत फूल रहा है तो उन्होंने झट से मेरे पेंट-शर्ट उतार कर मेरे अंडरवियर से लंड बाहर निकाल लिया और सहलाने लगीं। उस वक्त मानो मैं जन्नत की सैर कर रहा था।उन्होंने कहा- राकेश और मत तड़पाओ मुझे.

मैं भी ठहरा एक नम्बर का चोदू लौंडा… मैंने कहा- मिलोगी तो देख लेना!तो उसने कहा- आ जाओ घर पे!मैंने कहा- अभी नहीं, कल रात में!और किसी तरह उसको फ़ोन पे चोद कर शांत किया. बीएफ दिखाओ इंग्लिश मेंमैंने चाची की साड़ी ब्लाउज पेटीकोट सब उतार दिया। अब वो केवल ब्रा-पेंटी पर आ गई थीं। उनके तने हुए मम्मों को देखते ही मेरा लंड फिर से उफान खाने लगा।चाची ने देखा कि मेरा लंड बहुत फूल रहा है तो उन्होंने झट से मेरे पेंट-शर्ट उतार कर मेरे अंडरवियर से लंड बाहर निकाल लिया और सहलाने लगीं। उस वक्त मानो मैं जन्नत की सैर कर रहा था।उन्होंने कहा- राकेश और मत तड़पाओ मुझे.

पेंटी यूँ उतरने का अपना ही मजा है… यक़ीन ना हो तो उनसे पूछ लो जिन्होंने उतारी है या जिनकी यूँ उतरी है!!अंततः मैंने उसकी चूत को पूरी तरह से आज़ाद कर दिया.बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो: सुपारे पर जीभ नीचे-ऊपर घुमाई और हथियार को मुँह में भर लिया।जैसे समझो मेरा लंड मलाईदार दूध में डुबकी लगा रहा था।रसीली भाभी अब मेरे पूरे बदन पर हाथ घुमा रही थीं। मेरा हाथ भाभी की जुल्फों से खेल रहा था।रसीली भाभी जब लंड मुँह में गले तक अन्दर लेतीं तो होंठ खोल कर जीभ से काम करतीं, जब लंड बाहर को निकालतीं.

कुछ देर हम एक दूसरे के शरीर को सहलाते हुये अपनी गर्म साँसों से कमरे को महकाते रहे.क्योंकि मुझे पेंटी फंसती सी लगती है।इस पेंटी में वो बहुत मस्त लग रही थी। मैंने बहुत जल्दी उसकी पेंटी को उतार दिया। उसकी चूत पर बालों का एक जंगल था। मैंने पूछा- झांटों को क्या कभी साफ नहीं करती हो?तो बोली- किस के लिए करूँ?मैंने बोला- मेरे लिए?तो बोली- हाँ.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी - बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो

मैं दूध चूसता रहा।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अगले दिन मैंने रात में उसे बुलाया.मैं बहुत प्यासी हूँ।मुझे देखते ही उनका मन मुझसे चुदवाने का हो गया था, उन्होंने रज़ाई हटा दी और मेरा लंड अपने हाथों से मसलने लगीं।मेरे अन्दर भी चुदास का करेंट सा जाग उठा, मैंने उनके बाल पकड़े और अपने होंठों से सटा कर उनके होंठ चूसने लगा, साथ ही मैंने अपने हाथों से उनकी टाइट गांड पर पकड़ मजबूत कर दी।कुछ देर की चूमाचाटी के बाद मैंने उनका शर्ट निकाल दिया.

बस वो रोने लगी और अचानक मुझे ज़ोर से किस कर लिया। मैंने उसको अपनी तरफ खींचा तो वो और जोर से किस करने लगी। तब मैंने उसके मम्मों में फिर से हाथ लगा दिए और बस प्यार की दुनिया में पूरा खो गए।अब मैं उसकी टी-शर्ट ऊपर करके उसके मम्मों को दांत से काटने लगा तो वो थोड़ा ‘आहह. बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो मैं थोड़ी देर तक उनके आम चूसता और सहलाता रहा।जब दीदी का दर्द कम हुआ तो फिर मैंने धीरे-धीरे धक्के मारना चालू किए।अब दीदी को भी मजा आ रहा था।कुछेक मिनट तक ताबड़तोड़ दीदी को चोदने के बाद मैं और दीदी झड़ने वाले हो उठे थे।मैंने दीदी से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।तो वो बोलीं- मैं भी झड़ने वाली हूँ.

मैं- ओके… और कुछ?मनजीत- रूचि जी, अगर आप बुरा ना मानो तो आप अपनी कुछ पिक्चर सेंड कर सकती हैं, कस्टमर को दिखाने के लिए… फेस हटा देना लेकिन पूरी बॉडी दिखनी चाहिए फोटो शूट की तरह से… कुछ आगे से कुछ पीछे से!मैं- मेरे पास वैसे पिक नहीं हैं.

बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो?

फिर मैंने दिव्या को बांहों में ले लिया और चूम लिया, उसकी सहेली ने भी दिव्या को चूमा।दिव्या बोली- चलो ओये चलो. उसका शाम को मुझे कॉल आया कि वो मॉल के पास है और पूछा- आप आओगे या मैं आ जाऊं आपको लेने?तो मैंने कहा- आ जाओ!वो अपनी स्कूटी से आ गई मेरे घर के पास और हम दोनों साथ चल दिये. जिसके चलते मेरी पत्नी ने ससुराल जाने से इन्कार कर दिया और मुझसे कहा कि आपको जाना है तो अकेले ही जाओ, मैं आपके साथ नहीं जा रही हूँ.

उसकी पसीने की खुशबू में उसके वीर्य की हल्की गंध भी मिली हुई थी… लग रहा था जैसे सारी रात का लौड़ा खड़ा हुआ कामरस निकाल रहा था और सुबह वो सूख गया था जिसकी हल्की महक मुझे पागल कर रही थी. उसके बाद मेरी गर्लफ्रेंड और उसकी रूममेट के बीच पता नहीं क्या बात हुई… वो दोनों मेरे पास आई और मुझे खाना शुरू कर दिया, मेरी गर्लफ्रेंड ने तो सीधा मेरा लंड पकड़ लिया और नीचे बैठ कर, मैं उस वक़्त शॉर्ट्स में था, उसने मेरे शॉर्ट्स नीचे करे और लंड चूसना शुरू कर दिया और उसकी रूममेट मेरे होंठों को चूसने लगी. इकदम ओ मेरे गले लाग के रोण लग पई!मैं ओन्नूँ पूछ्या- कि होया?ताँ ओ दस्सण लग्गी- मैं इक गरीब घर दी कुड़ी आँ! मेरे घर आले मेरी मैरिज इक हैंडीकैप मुंडे नाल करवाना चाहुंदे ने!मैं ओस नूँ होंसला दित्ता- कोई गल्ल नी… जेड़ा रब्ब नू मंजूर है ओही होवेगा!फेर मैं कॉफ़ी बनान किचन च गया.

मेरी सेक्सी कहानी के इस भाग में पढ़ें कि क्या मैं प्रिया की बुर की चुदाई कर पाया?मेरी मलाई प्रिया के मुंह के अन्दर और चेहरे पर गिर गई. इसके चिल्लाने के आवाज बाहर तक आ रही है।राजवीर ने आसन बदला और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मेरी चुदाई करने लगा। इतनी देर में मैं 3 बार झड़ चुकी थी और वो था कि साला झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसने मुझे बहुत देर तक चोदा। फिर वो झड़ कर मुझसे अलग हो गया। कुछ देर बाद उसने मुझे कपड़े पहनाए. उसके कमरे में कदम रखते ही हम तीनों खड़े हो गए और उसके नजदीक पहुँच गए.

उनको तो पता है, लेकिन नए लोगों के लिए मैं एक बार फिर से बता देता हूँ कि मेरी दोनों बहनों में से एक का नाम सुरभि है, उसकी उम्र 25 साल है। वो दिखने में साउथ की हिरोइन अनुष्का शेट्टी की तरह है, उसकी बॉडी तो उससे भी अधिक हॉट है। उसकी फिगर का साइज़ मैं आपको बता देता हूँ. अब जो नज़ारा मेरी आँखों के सामने था, उसे मैं जिंदगी भर नहीं भूल सकता… गोरी गोरी जांघें… एकदम दूध जैसी… उसके अंदर गुलाबी चूत… जो लग रहा था कि अभी बाल साफ किये हैं… शायद चाची चुदवाने के लिए ही आई थी.

xxx मूवी देखा कर मुझे जोश आने लगा, मैंने उसे कहा- मेरी बाजू पे सिर रख ले!उसने वैसे ही किया.

मैं देख रहा था, मेर दोस्त मुदस्सर मेरी पत्नी अमिता को कसकर जकड़कर स्मूच कर रहा था ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ उसका एक हाथ अमिता के काले सिल्की गाउन के अन्दर उसके बूब्स को मसल रहा था.

रात के अँधेरे में लहरों का शोर मधुर संगीत से कम नहीं लगता…थोड़ी ही देर में अंजलि भी फ्रेश होकर मेरे पास आ कर बैठ गई, अब उसका मूड मुझे कुछ ठीक लगा, शायद अपने आप को सेफ महसूस कर रही थी. उस वक्त आंटी की लड़की सोई हुई थी और उनका पति काम पर गया था। आंटी बेड पर लेटी हुई अपनी लड़की को दूध पिला रही थीं।मुझे देखते ही आंटी ने अपनी चूची मैक्सी में डाल ली।मैं मस्ती में बोला- पूरा दूध तो पिला दो उसको!तो आंटी बोलीं- उसकी बड़ी चिंता हो रही है तू अपनी बता. मैंने जानबूझ कर तुम्हारे दूध पर पैर लगाया था। मैं उस वक्त पोर्न सेक्स देख रहा था.

माँ अपना पोर्न वीडियो देख कर चौंक गई, मैं बाहर छिप कर देख ही रहा था. मुझे महसूस होने लगा था कि अब लड़के झड़ना चाहते हैं, मैंने अपनी पत्नी को इकट्ठे दोनों के लंड चूसने का इशारा किया तो दोनों लड़के अपने बीच में साझी प्रेमिका को बैठा कर अपने-2 लंड उसके मुंह की ओर ताने खड़े हो गए. पर ये सब मैंने नहीं सोचा था!मैं- तुमको यह नहीं लगा कि मैं तुमसे उम्र में काफी बड़ा हूँ और तुम बहुत कमसिन सी हो?कोमल- मुझे अपने से उम्र में बड़े लोग पसंद हैं, मेरे पति भी मेरे 11 साल बड़े हैं.

फिर उसकी तरफ आंख मार कर कहा- सारा जरूरी सामान ले लेना, नताशा संग हम लोग होटल के एक कमरे में और तू दूसरे कमरे में रहेगा.

मेरी जान में जान आई, मैंने कहा- चल ऊपर छोटी, ले आना!मैंने अंदर जाकर कुछ रूपए निकाल कर उसकी हथेली में रकहते हुए उसके हाथ को पकड़ लिया और वो विरोध करने के बजाय मुस्करा कर चली गई. कभी समय पर खाना भी नहीं खा पाया है, लेकिन तुम्हारे आने से यह घोंसला एक घर बन गया है. वो सब फिर वहाँ पर मिले। इस बार मेरी नजर तो शुरूआत से उसके मम्मों पर ही थी.

मुझसे अब रहा नहीं गया, मैंने उसकी पेंटी उतार दी, उसकी चूत देख कर मैं बिल्कुल पागल हो गया… क्या चूत थी वो… एकदम सफेद और उस पर एक भी बाल नहीं था. ‘मैं भी सेक्स वाइफ लाइफ स्टाइल का चाहने वाला हूँ और मेरी पत्नी भी!’ मैंने धीमे से कहा तो अनातोली नामक आदमी की आँखें ख़ुशी से चमक उठी. मैंने आंटी का हाथ पकड़ कर रोका, तो वो तो बस गुस्से से लाल हो गईं और मुड़ कर मुझे एक और थप्पड़ मार दिया, जिससे मुझे गुस्सा आ गया।आज तक मेरे पापा ने मुझे नहीं मारा और इस साली ने मुझे दो झापड़ मार दिए।अब मैंने सोच लिया कि मरना तो है ही.

अब उसका पति रमेश अपनी डयूटी पे जा चुका था, उसे गये करीब एक महीना हो गया था, सुनीता की चूत लंड लेने के लिए तड़पती रहती, सुनीता की मुनिया का लंड के बिना बुरा हाल हुआ पड़ा था.

और वो सफ़ेद ब्रा और पेंटी में रह गई थी।चूंकि कमरे में नाइट बल्ब जल रहा था तो दादी माँ भी कुछ नहीं दिखा।वो बोलीं- नीनू, क्या हुआ क्यों चिल्ला रही हो?नीनू बोली- दादी माँ मेरी नाइटी में काकरोच घुस गया है।वो कुछ नहीं बोलीं और फिर से सो गईं।मैं नीनू को ब्लैक ब्रा-पेंटी में घूर रहा था. मैं यह सब ठीक उसी तरह से कर रहा था, जैसे सुहागरात में करते हैं।थोड़ा देर दोनों के बीच धक्का मारने का खेल चलता रहा और फिर अन्त में मैंने उसके चूत के अन्दर अपना पानी डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया।काफी थक चुके थे हम दोनों… तो पता नहीं कब नींद आ गई.

बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो नमस्ते… यह मेरी देसी चुत की देसी चुदाई की पहली कहानी है। मेरा नाम राहुल है. मैंने झुक कर वंदु की दोनों जाँघों को चूमा और हौले से उसके दोनों पैरों को इतना फैला लिया ताकि मैं अपने आपको समा सकूँ.

बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो वो भी कुछ न कहती। कभी-कभी तो खेल खेल में मैं उसे गिरा कर उसके ऊपर चढ़ जाता और उसे इधर-उधर मसल देता।ऐसे ही हम दस-बारह रोज मजा लेते रहे। फिर एक दिन जब हम तीनों यही सब खेल रहे थे. पर जब मैं अपने इस हाल से उबर गई तब मुझे अहसास हुआ कि सुधीर चाहता तो मुझे उस समय कहीं भी टच कर सकता था, सहला सकता था या और कुछ कर सकता था, पर उसने मुझे छुआ तक नहीं.

तो वैभव ने उसे पलंग पर पटक दिया और अपने दोनों हाथों से भूमिका के पैरों को उठा कर उसकी चड्डी को उतार दिया।उफ़.

सेक्सी कॉम वीडियो बीएफ

कई बार तो फिल्मी हीरो की भी कल्पना करता कि वह मेरी पत्नी को चोद रहा है. एक दिन मैं रोज की तरह नहा रहा था उस दिन भी शाहीन देख रही थी, मैंने देखा और डर गया… पहली बार था ना!पर उसने किसी को नहीं बताया. ब्लाउज ऐसा कि क्लीवेज तो बस कहर ढा रही थी।रास्ते भर हम दोनों बात करते रहे। मैं उसको छेड़ता रहा, मैंने कहा- यार लेट्स सेलिब्रेट रोड साइड!कहती- पागल हो.

मैंने कहा- ओ मेरी जोहा रण्डी, अब बात बाद में, जल्दी से मुझे अपनी गांड खोल के दिखा!जोहा ने जल्द ही अपने कपड़े अपने गोरे बदन से आजाद किये और मेरे कपड़े भी उतार दिए,मेरे लंड को निकाल कर अपने हाथों से, जोर जोर से दबाया, फिर उस लंड को अपने मुँह में लिया औऱ बड़ी जोर जोर से चूसने लगी,मेरे लंड के पानी को जोहा अपने मुंह से खींचना चाह रही थी, फिर मैं उसकी गांड की तरफ गया और उसके चूतड़ों को हाथों से खोला. वो इतनी कामुक हो गई थी कि 2 मिनट में ही वो झड़ गई और मैं उसका सारा माल जीभ से चाट गया. मेरा घर नई मुम्बई खारघर में 3 बैडरूम का एक फ्लैट है जो 11th फ्लोर पर है.

मुझे बहुत मजा आ रहा था मैंने अपना हाथ मौसी की गांड पर लगाया और दबाने लगा.

उसकी चुत इतनी गर्म हो चुकी थी कि बर्फ को पिंघलने में ज़रा भी टाइम ना लगा. वैसे ही मैंने एक झटका देकर अपना लंड उनकी चूत में उतार दिया।इस झटके में उनकी चूत में मेरा आधा ही लंड जा पाया. जो बहुत पॉवरफुल थी।उसने वो जूस पिया और मैंने उससे कहा- जरा मेरी मदद कर दो.

अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था, मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और सलवार को सामने से नीचे खींच दिया. फिर मेरी ब्रा को उसने अपने लंड के चारों तरफ लपेटा और जोर-जोर से अपने लंड को हिलाने लगा और चीखते हुए मेरी ब्रा में अपने लंड का सारा रस निकाल दिया।माल निकालते हुए उसने कहा- प्रमिला भाभी. तो कुछ करके मरूं!मैंने आंटी को कमर से पकड़ लिया, वो एकदम से चिल्लाईं- यह क्या कर रहा है तू?मैं कुछ नहीं बोला और आंटी को उठा कर बिस्तर पर गिरा दिया।आंटी बोलीं- तू पागल हो गया क्या? ये सब क्या है?तो मैं बोला- चुप कर.

मैंने ये अभी पढ़ा और इतने में तुम आ गए, अब तुम ही कुछ करो।तो उसने कहा- मैं क्या करूँ?मैंने उससे कहा- तू उसे प्यार से समझा कि ये सब ठीक नहीं है. मुझे मेल के ज़रिए बताना।[emailprotected]आप मुझे फ़ेसबुक पर भी संपर्क कर सकते हैं।.

मैंने उसे धक्का दिया, वो नीचे आ गई, मैं उसके ऊपर और मैंने उसके होंठों को बहुत बेदर्दी से किस किया तो उसने मुझे कस के पकड़ कर अपनी बांहों में ले लिया. परन्तु मैं कहना चाहती हूँ कि इस कहानी को आप लोग जरूर पढ़ें और एक नारी की मनोदशा को समझें।धन्यवाद।[emailprotected]. तो पता चला कि हम लोगों को डाउनसाइड में जाने की जरूरत है, वहाँ बहुत सारे एजेंट्स यही काम करते थे।हम लोग एक शॉप पर पहुँचे और पूछताछ करने लगा, तभी एक ग्रुप और उस शॉप पर आया और सेम चीज के लिए पूछताछ करने लगा। कमाल की बात ये थी कि वो ग्रुप कोई और नहीं था.

जोरदार धक्के मारने से तेरी चूत का पानी निकल जायगा क्या? अब तू बुद्धू जैसी बातें कर रही है। यह तो प्यार का खेल है.

जहाँ पे उसका भाई और उसकी बहन भी साथ में थी।यह मेरी पहली चुदाई की कहानी थी. फिर थोड़ी देर बाद जब मेरा लौड़ा बिल्कुल टाईट हो गया तो मैंने उसकी पेंटी उतार दी, जब उसकी बुर को देखा, वो बिल्कुल साफ थी और बुर से लसलसा पानी निकल रहा था।मैंने उस पानी को झट से जीभ से साफ किया. मैं कुछ देर तक बिस्तर पर ऐसे ही पड़ी रही, मेरे से खड़ा हुआ नहीं जा रहा था, उसने मुझे सहारा देकर उठाया!मेरी जांघों पर से खून और वीर्य की बूंदें गिरी हुई थी, बिस्तर पर खून और वीर्य पड़ा हुआ था.

मैंने उसके लोअर की तरफ देखा तो आज उसके लंड का उभार कल से बड़ा लग रहा था… मानो जैसे कोई लंड खड़ा होने की तैयारी में हो. नमस्कार मित्रो, यह मेरी पहली कहानी है पड़ोसन लड़की की चुदाई की…मेरा नाम राहुल है और मैं 21 साल का बंदा हूँ। मैं जवान गोरा और बड़े लंड का मालिक हूँ। मेरी पड़ोसन लड़की जिसकी नाज़ुक जवानी को देख कर हरेक का लंड फुंफफार मारने लगता है। उसका नाम कोमल था। जैसा नाम.

बहुत ही आलिशान घर था उसका लखनऊ के पोश इलाके में!घर में जाते ही मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चूसना शुरू किया. ’नीचे के रूम की घिसाई हो गई थी, पर ऊपर के रूम का कुछ भी नहीं हुआ था. ‘दीदी तुम कह तो सही रही हो… पर मैं कर ही क्या सकती हूँ?’‘रमा तुम भाईसाहब को किसी अच्छे डॉक्टर को क्यों नहीं दिखाती? आज हर बिमारी का इलाज है… मैं एक दिन भी चुदाई के बिना नहीं रह सकती… तू पता नहीं कैसी जीती है?’‘दीदी अब क्या कहूँ तुमसे, ये किसी डॉक्टर के पास जाते नहीं… पर मैंने सोचा शरमाते होंगे तो इन्हें बिना बताये ही कई डॉक्टरों की दवाई ले आती थी और इनके खाने में मिला देती थी पर कोई लाभ नहीं हुआ.

वीडियो बीएफ सेक्स वीडियो

और उसी दिन चाचा के वकील का फोन आ गया, उनको शहर भी जाना था और यह भी बहुत जरूरी था तो मुझसे चाचा ने कहा कि मैं खेतों में पानी दे दूँ.

क्या गदराया भरा जिस्म था आयुषी का!हम रोजाना ऐसे मजे लेते हैं, वो अपनी छत पर मैं अपनी छत पर…उसने पेंटी ब्रा नहीं पहन रखी थी, उसके तने हुये मम्मे देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं मुठ मारने लगा. बाद में मुझे भाभी ने पूछा- आज तुम वहाँ मेरी ब्रा के साथ क्या कर रहे थे?मैं कुछ नहीं बोला, बस उन्हें देखता रहा. पर मुझे पता है कि क्या करते हैं।इतना बोलकर मैंने उनको किस कर लिया।उन्होंने झट से बोला- तुम काफ़ी चालू हो.

मैंने उससे उसकी मम्मी के बारे में पूछा तो उसने कहा- वो सो गई हैं, उनके सर में दर्द हो रहा था।मैं खाना खाकर उठ के जाने ही वाला था कि उसने कहा कि मेरे कमरे में चलो!मैं उठ कर उसके कमरे में गया जो उपर था. तो मैं कभी उसकी जीन्स के अन्दर हाथ डाल देती।वो भी मेरे साथ रह कर तेज हो गया था। उसने मेरे होंठ चूसने शुरू किए. जीजा साली का बीएफ हिंदीअब हम दोनों को कोई डर नहीं था कि कोई देख न ले, बेफिक्र होकर एक दूसरे के जिस्म का स्वाद ले सकते थे.

माँ मर गई…’पर नशे में चूर बापू पर मेरी चीखों का कोई असर नहीं हुआ, उन्होंने एक और ज़ोर का धक्का दिया और मेरी चूत मूसल लंड से भर गई ‘आई… मर गई बापू मर जाऊँगी मैं… निकालो बाहर… बापू बापू…’पर बापू ने बिना कुछ कहे ही एक और झटका दिया. मत कर!मैंने कुछ नहीं कहा और एक हाथ से गांड और एक हाथ बढ़ा कर दीदी की चुची को मसलने लगा। वो मुझसे अलग होने की कोशिश करने लगी.

तो कल्पना ने भी आहह उहहह की आवाजें निकालनी शुरु कर दी… अब कल्पना ने आभा के कंधों को सहलाया, चूमा और हल्के से अपना दांत भी गड़ाए…आभा चिंहुक उठी. जो बाहर को निकली हुई दिख रही थी।मेरी दीदी की गांड और ब्रा की स्ट्रेप को देख कर मेरा लंड एकदम टाइट हो गया और मेरा मन करने लगा कि मैं लवली दीदी को चोद दूँ, पर मैं ऐसा कैसे कर सकता था इसलिए मैं उस रात मुठ मार कर सो गया।अगली सुबह हम दोनों की छुट्टी थी. मेरे घर के सामने मुझसे तीन साल बड़ी एक महिला रहती थी जिन्हें मैं दी कह कर बुलाता था, उन्होंने आज तक शादी नहीं की, सुना था कि किसी से प्यार करती थीं और उसने शादी कहीं और कर ली थी जिसकी वजह से उन्होंने शादी नहीं की.

वो भी वीर्य को मज़े से पी गई।तब से लेकर आज तक मैं अपनी दीदी की बहुत बार चुदाई कर चुका हूँ और मैंने दीदी की गांड भी मारी है।आपको मेरी दीदी की चुदाई की इस सेक्स स्टोरी पर क्या कहना है. कमर की मालिश करते हुए और अब गांड की मालिश चालू थी तो वो बोली- ये पेंटी निकाल दो, मेरी मालिश अच्छे से करो!मैंने एक झटके से उसकी पेंटी निकाल कर उसे नंगी कर दिया, अब उसकी गांड का छेद मेरे सामने था बिल्कुल… मैंने उसके छेद में खूब तेल लगाया और मसलने लगा उसकी गांड!वो उम्म्म. थोड़ी देर बाद राहत हुई तो मैं लंड आगे-पीछे करने लगा। अब उसे भी मजा आने लगा.

पर न जाने क्यों डर भी लग रहा था कि कहीं भाभी घर में सभी को ये बातें बता न दें।खैर.

मुझे सेक्स बहुत पसन्द है लेकिन मैंने इस घटना से पहले तक किसी लड़की के साथ कुछ नहीं किया था, पता नहीं क्यों… शायद ऊपर वाले की यही इच्छा होगी. साथ ही उनकी खीर की कटोरी लेकर आ गया। मैं उसमें लंड डुबा कर मुठ मारने लगा। मैंने मुठ मारते हुए सारा वीर्य मामी की खीर में गिरा दिया। इसके बाद चम्मच से खीर को हिला दिया, इससे मेरा वीर्य खीर मिक्स में हो गया। फिर मैंने उसी जगह पर कटोरा रख दिया।मामी नहा कर आईं और बोलीं- बेटे खीर खाई?मैं बोला- नहीं.

और वहीं पर नीचे वो मर्दाना तरीके से तना हुआ लंड जिसकी कल्पना मैं सपने में करता हूँ…जी तो कर रहा था कि जाकर चूस लूं… लेकिन शुरुआत कौन करे… उसे भी पता था मैं क्या चाहता हूँ और मुझे भी पता था कि वो क्या चाहता है. मैं उनसे मिलने उनके नए घर में नहीं जा पाया। भाभी ने काफ़ी बार फोन भी किया।फाइनली एक दिन मैंने वहाँ जाने का डिसाइड किया। मेरे भैया अधिकतर बिजनेस टूर पर रहते हैं और अक्सर रात में देर से घर आते हैं. मैंने उसके कपड़े उतारना शुरू किया, क्या बताऊँ मैं आपको… बला की खूबसूरत लग रही थी वो… मैं उसके सफेद मम्मों को देखता ही रह गया, वो भी शायद बहुत गर्म हो चुकी थी.

मैंने कहा- दीदी, क्या मैं आपके साथ सो सकता हूँ?दीदी ने कहा- ठीक है. काफी देर तक चुदाई करने के बाद मैं झड़ने वाला था, उसने बोला- मेरे चूतड़ों पर निकालना!मैंने चूतड़ों पर पिचकारी मार दी. अब मैं अपने लंड पर तेल लगा कर उसे अपनी बहन की चूत में धीरे से डालने लगा.

बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो वहाँ आकर वो रोने लगी कि कैसे उसके ससुराल वाले उस पर जुल्म किया करते थे। मैं उसकी बातें वहीं एक तरफ बैठ कर ध्यान से सुनता रहा और बातें सुनने के साथ धीरे-धीरे उसको बार-बार देख भी रहा था।अचानक उसने मुझे देख लिया कि मैं उसे बार-बार देख रहा हूँ. ‘चुपचाप ऐसे ही झुकी रह मेरी कुतिया भाभी… तेरी चूत तो मैं बाद में लूँगा.

बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो हिंदी में

वो बुझी हुई थी, बोली- साले ने मुझसे पैसे ले लिए और कह रहा था कि और पैसे चाहिए।मैंने कहा- मत दो. यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!कुछ देर बाद मैंने फिर चुदाई शुरू की. मैं देख कर दुखी तो हुई, मगर करती क्या… मैं बेबस लाचार सुनकर चुप रह गई!फिर पापा अपने काम के सिलसिले में बाहर रहने लगे, पापा अपने बिजनेस में इतना मशगूल हो गये कि घर महीने में 1-2 बार सिर्फ मिलने आते और चले जाते, काफी काफी दिन घर नहीं आते, उनका फोन आता और रूपये… पापा के भेजे रुपये सब को खुश करने लगे.

भाभी गुड नाइट।मैं दूसरे कमरे में जा कर बिस्तर पर लेट गया। मैं यह सोच रहा था कि क्या करूँ. मैं उस वक़्त ज्यादातर समय फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम पे देता था, दिन भर ऑनलाइन रहना मेरी आदत थी. बीएफ वीडियो सॉन्ग यूट्यूमैंने कहा- ऐसा कैसा भाई है यार?वो उदास हो उठी थी।मैंने उसके साथ बिस्तर पर लेट कर उसे गले लगा लिया।फिर वो बोली- मैं बहुत थक गई हूँ।मैंने कहा- यहीं सो जाओ।वो लेट गई.

साली के चूतड़ लाल और ढीले हो गए।फिर उसने मैडम के पैर अपने कंधों पर रखे और लंड जोकि पूरे शेप में आ चुका था.

जरा मेल करके बताओ न यार!दिव्या को मुझसे मिल कर अच्छा लगता था, वो कहती थी कि तुम हो तो थोड़ा अच्छा लगता है. तब मैंने उसका फोन लिया और देखा कि उसने भी मेरी ही तरह एक हाइडिंग एप्लिकेशन डाउनलोड कर रखा है.

मुझे तो जन्नत नसीब हो गया था, ऐसा लग रहा था मुझे! मैंने पहली बार नहीं चुसवाया था, इससे पहले भी बहुतों को चुसवा चुका हूं पर इसकी बात कुछ और थी. फिर मैंने उसे अपने नीचे लेटाया और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाला. हालांकि अब भी मेरा मन डरा हुआ था।जीजाजी ने मेरे दोनों दूध खूब चूसे, जिससे मेरी बुर ने भी पानी छोड़ दिया था। तभी जीजा जी ने एक हाथ मेरी पेंटी पर फेरा और पेंटी पर गीलेपन का अहसास होते ही वो मुस्कुरा उठे और उन्होंने मेरी पेंटी के अन्दर हाथ डाल कर मेरी बुर को सहला दिया.

नताशा ने आँखें तरेर कर मेरी तरफ देखा और फिर मुस्कुराते हुए प्यार से अपनी गुलाबी जीभ से मेरे लंड के टोपे को चाट लिया.

और दो ही मिनट में नाइटी खोल दी। उन्होंने अन्दर ना ब्रा पहनी थी ना ही चड्डी। मेरा लंड फुल टाइट हो गया था। मैंने उनके बोबे चूसने शुरू कर दिए. उनके जाने के थोड़ी देर बाद रेखा बुआ जी बोलीं- सुंदर, सोफे पर तो तुम्हें ठंड लग जाएगी, तुम भी यहाँ बेड पर ही बैठ जाओ. बड़ी मनमोहक खुशबू आ रही थी, मैंने तुरंत चुत पर अपने होंठ रख दिए और जीभ से चुत चाटने लगा.

हिंदी बीएफ गूगलजिससे उसे भी अपनी चूत का स्वाद मिल गया।फिलहाल वो ढीली सी होकर लेट गई थी, लेकिन मुझे उसको अभी चोदना था. कुछ देर बाद हमने पोज़िशन चेंज की और वो मेरे ऊपर आ गई और मुझे चोदने लगी, पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ सुनाई दे रही थी.

बीएफ सेक्सी पिक्चर चोदी चोदा वीडियो

उसने कहा- और करो… और करो… और करो!वो चिल्लाई तो मैं पूरी ताक़त से चोदने लगा और बड़ी लंबी पिचकारी की तरह मेरा सफेद बीज निकल पड़ा. उसने मेरे लंड और कंडोम को हाथ लगा के देखा कि मैं झड़ा या नहीं… फिर गुस्से से बोली- मादरचो… बिना झड़े निकाल लिया… चल जल्दी से घुसा के निपट जा…मेरा लौड़ा तैयार था उसकी चूत में जाने के लिये… मैं तुरंत ही उसके ऊपर आ गया और उसकी चूत पर अपने लौड़े से उस पर मारने लगा, फ़िर सीधा उसकी चूत में डाल दिया. मैं उसको बाँहों में भर कर उठा, कोमल ने भी अपनी बाँहों का हार मेरे गले में डाल कर अपने पैरों को मेरी कमर में कस लिया, अब हम दोनों के होंठ आपस में मिलकर एक दूसरे का चुम्बन करने लगे, उसके चूचुक खड़े होकर मेरे सीने में दब गए.

दोस्ती यारी में बहन की चुदाई फिर बीवी की चूत चुदा ली-1मेरा दोस्त दिल में बहुत खुश था, उसके इच्छा जो पूरी होने जा रही थी, मेरी मासूम गोरी बदन बीवी को वो चोदने की फिराक में था. मैं हँसता रहा और गांड मारता रहा।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई और मजा लेने लगी।मैंने सही मौका देख कर फिर से एक जोरदार शॉट के साथ पूरा लंड पेल दिया. तुम मुझे बहुत पसन्द आये!मैंने तुरंत ही उसको रिप्लाई किया और उसकी तारीफ करता रहा, आखीर में मैंने कहा- यार तुम बहुत सेक्सी हो, मेरा मूड ख़राब कर दिया तुमने!हम बहुत खुल चुके थे तो मैं उसको खुल के बोल देता था.

अब चोद दो मुझे!मैंने भी देर ना करते हुए उसकी चुत पर अपना लंड रखा और रगड़ने लगा।‘आ. उसने थोड़ी ही देर बात की और फोन रख दिया। तब मैंने सोचा कि मौका अच्छा है, अपना जाल बिछाना चाहिए. मैं अपनी प्यारी बहन को प्यार से कर रहा था ना कि उस तरह जिस तरह से सपनों में करता था। मैंने उसकी चुची को हाथ में भर लिया और उनमें हवा भरने लगा।मेरे हर धक्के पर माही प्यार में सिसकार उठती और उसकी चूत में लंड को और अंदर तक ले लेती.

वो बहुत हॉट थी, उसकी उम्र 32 साल थी, पर इस उम्र में भी वो गजब लगती थी, रंग उसका बिल्कुल गोरा था, 36 साइज के टाइट मम्मे थे. मैं मुस्कुराते हुए बोली- नींद नहीं आ रही क्या?उन्होंने एक सोने की हार गले में डालते हुए शादी की सालगिरह का तोहफा दिया।मैं इठलाते हुए- इतनी जल्दी क्या थी… कल देते!उन्होंने मेरी चुची जोर से मसली और कहा- कल मुझे ऑफिस के काम से 3 दिन के लिए बाहर जाना है।मैंने मुँह फुला लिया…वो मेरे ऊपर आ कर मुझे चूमने लगे, मेरी चुची भी मसलते रहे.

फिर मैं उसकी गांड पर हाथ फिराने लगा, वो मेरे लण्ड को मुँह में लेकर खड़ा करने लगी.

‘शट अप!’ मैंने गुस्से से उसे बोला, तभी पैरों की आवाज सुनाई दी, मेरे पति ऊपर आ रहे थे, मैंने कंडोम अपने मुट्ठी में छुपा लिया. बीएफ नई डिजाइन कीमैंने उसके कपड़े उतारने के बाद देखा, सिर्फ़ ब्रा और कच्छी ही बची थी वो कच्छी भी चुत के पास से एकदम गीली थी, ऐसा लग रहा था कि किस करने में ही झड़ गई हो एक बार!मैं भी उसकी चुची को ब्रा से आज़ाद करके चूसने लगा और अपने हाथ को उसकी कच्छी के अन्दर डाल दिया. लुधियाना की सेक्सी बीएफउस रात को मैंने और दीदी दोनों ने एक ही साथ खाना खाया और टीवी देखकर सो गए। मैं लवली दीदी के बाजू में सोया हुआ था कि अचानक मेरी आँख खुली और मेरी नज़र उसकी ब्रा की स्ट्रेप पर पड़ी. ’और इसी तरह हम दोनों भाई-बहन ने रात को 4 बार चुदाई का मजा लिया और फिर वापस अपने घर आ गए।तो दोस्तो कैसी लगी आपको मेरी भाई बहन की चुदाई की कहानी.

उसको अपने पीछे बिठाया और मेरे दोस्त ने उसकी एक्टिवा उठा ली। हम हॉस्पिटल पहुँच गए.

करने दो ना यार!उसने आँखें खोलकर मुझे जी भर के देखा फिर मेरा हाथ छोड़ दिया। फिर मुझे कसकर गले से लगा लिया और कहा- जीतू आई लव यू. मैं हाथ से मसाज करने लगी… उसका हाथ मेरे पीछे से मेरे चूतड़ पे गया और उसने एक ज़ोर का थप्पड़ मारा और कहा- नाइस एस बेबी… आई लाइक इट!फिर उसने मेरा ब्लाउज खोला और ब्रा भी निकाल दी. मैं देख कर दुखी तो हुई, मगर करती क्या… मैं बेबस लाचार सुनकर चुप रह गई!फिर पापा अपने काम के सिलसिले में बाहर रहने लगे, पापा अपने बिजनेस में इतना मशगूल हो गये कि घर महीने में 1-2 बार सिर्फ मिलने आते और चले जाते, काफी काफी दिन घर नहीं आते, उनका फोन आता और रूपये… पापा के भेजे रुपये सब को खुश करने लगे.

कहती- बेशरम हो पक्के।दोस्तो रात को 12 बजे मैं उसके रूम पे केक लेकर गया. मुझे अजीब नहीं लगा क्योंकि यह मैं जानता था कि मैं गोआ में था और मेरी वाइफ जयपुर में… सौरभ मेरे घर रोज आने लगा था, मेरी वाइफ को कंपनी भी मिल जाती थी. नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैंने उनकी बात को अनसुना कर दिया और उनकी चूचियों को चुसकने लगा।कुछ ही देर बाद दीदी का दर्द कम हुआ और मैंने फिर से एक ज़बरदस्त धक्का दे मारा। इस बार मेरा पूरा लंड दीदी की चूत के अन्दर घुस गया। दीदी को बहुत दर्द हुआ.

80 साल की बीएफ

’‘तू चूसती भी तो मज़े से है, चल अब देर मत कर, लेट जा और टांगें खोल दे!’भाभी ने वैसा ही किया. फिर अजय ने पूछा- तुम्हारे लंड का साइज कितना है?मैंने कहा- क्या करोगे जान कर?तो वो बोला- बस ऐसे ही पूछ रहा हूँ!मैंने कहा- ठीक-ठाक है. माँ की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब क्या था, मैंने कैमरा चुपके से ओन कर दिया और एक जगह रख दिया.

उस वक्त मेरे एग्जाम चल रहे थे, इसलिए मैं तो शादी में जाने वाला था ही नहीं!उस रात करीब सात बजे मेरी पूरी फॅमिली और चाचा चाची और मनीषी शादी में जाने के लिए तैयार हो गये लेकिन अचानक से मनीषी की तबीयत खराब हुई और उसे दवा देकर सुला दिया गया.

उसकी शादी से एक महीने पहले उसने मुझे फोन किया और कहा कि वो अपनी शादी से पहले एक बार मुझसे बेइंतहा प्यार करना चाहती है और मुझे उसकी यह ख्वाहिश जरूर पूरी करनी है.

उसने मेरा पानी अपनी जीभ से साफ करा और अब मुझे किस करने लगी, अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगी जिससे मेरा लंड खड़ा होकर 7 इंच का हो गया. सुनीता नागिन की तरह अपनी कमर को लहराती हुई अपनी जवानी सुनील से चुसवाए जा रही थी, सुनील होंठों के बाद उसकी मस्त चुची को चूसने लगा था. हिंदी भाषा के बीएफप्लीज़।मैं बोला- ठीक है।हम दोनों सो गए।शनिवार की सुबह जब दादी माँ बाथरूम में गईं तो उसने मुझे आज किस करके उठाया।वो स्कूल ड्रेस में थी.

उसमें एक आंटी रहती थीं जो बहुत ही सुंदर दिखती थीं।मुझे वहाँ रहते हुए अभी 2 महीने ही हुए थे कि मेरा उस फैमिली से कुछ जरूरत से ज्यादा अच्छा परिचय हो गया था। मैं आंटी के बारे में बता दूँ वो 40 साल की खूबसूरत औरत हैं. तभी मैंने देखा कि इस साईट पर वीडियो चैट भी है यानि सेक्स कैम… वाओ… इंडियन देसी सेक्स कैम… यह मैं पहली बार देख रहा था. पहले मैं आपको अपनी चाची के बारे में बता दूँ, दो बच्चों की माँ होने के बाद भी वो बहुत सेक्सी लगती थी, उसकी तनाकृति 36-32-38 थी। चाची के चूतड़ तो बड़े ही मस्त लगते थे और उनकी 36″ की चूची क्या लगती थी.

फिर कहती- उसने मेरी मार ली!मैंने कहा- बस?उसने फिर हंस के कहा- अब यह भी सुनेगा कि कैसे घुसाया… या कितने धक्के दिए?हम दोनों हंसने लगे. साथ ही उनकी खीर की कटोरी लेकर आ गया। मैं उसमें लंड डुबा कर मुठ मारने लगा। मैंने मुठ मारते हुए सारा वीर्य मामी की खीर में गिरा दिया। इसके बाद चम्मच से खीर को हिला दिया, इससे मेरा वीर्य खीर मिक्स में हो गया। फिर मैंने उसी जगह पर कटोरा रख दिया।मामी नहा कर आईं और बोलीं- बेटे खीर खाई?मैं बोला- नहीं.

जहाँ पे उसका भाई और उसकी बहन भी साथ में थी।यह मेरी पहली चुदाई की कहानी थी.

राजू को ही ला देते हैं, अपने आप कर लेना लेना-देना उसके साथ! कर ले भाभी की चुदाई!’ थोड़ा मजाक के मूड में कही बात को मैंने नताशा को रूसी में भी सुनाई, तो वो जोर से हंसी, और फिर हम तीनों हंसने लगे. मैंने अपना लंड उसकी चुत पर रखा और हल्का सा अंदर धकेला, अभी तो मेरा लंड अंदर भी नहीं गया था लेकिन उसकी चूत की गर्मी ने असर दिखा दिया था. उस लडके राजवीर को तो मैं देखती ही रह गई।उसकी हाइट कम से कम 6 फीट 3 इंच रही होगी। उसका मर्दाना चौड़ा सीना लगभग 48 इंच का रहा होगा। उसके लम्बे हाथ उसके शारीरिक सौष्ठव को बहुत ही आकर्षक बनाते थे। वो ज्यादा गोरा तो नहीं था.

जंगली जानवर की सेक्सी बीएफ इधर वंदु ने कुछ सेकेंड्स तक यूँ ही अपने दांतों को लंड के सुपारे पर गड़ाए रखा और फिर धीरे से लंड को आज़ाद किया. उफ़ रेशम सी मुलायम स्किन, दूध सा सफ़ेद रंग और हमेशा गीली बड़ी सी काली झांटों वाली चूत!’मुदस्सर ने मेरी छोटी बहन रूबी का बखान करते हुए मेरी पत्नी अमिता की चूत में उंगली घुसा दी- पर तेरी चूत बहुत कसी है जान.

सच-सच बताओ।मैंने कहा- भाभी ग़लती हो गई सॉरी!उन्होंने कहा- मैं तेरी मॉम से सब बता दूँगी।मैंने कहा- सॉरी भाभी मैं थोड़ा बहक गया था।वो बोलीं- ओके. बस चुदाई की। उसने मेरी बॉडी के हर पार्ट से बहुत अच्छे से खेला और उसे बहुत मजा आया।आते टाइम हम दोनों एक-दूसरे को किस किया।‘क्या हम फिर कभी मिलेंगे?’‘पता नहीं अनूप. फिर वो मेरे अण्डों को अपने मुंह में भरकर अपनी एक उंगली को मेरे गांड के अन्दर डालने लगी.

इंग्लिश बीएफ गर्ल्स

निचोड़ डाल मुझे।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो 69 में होकर मेरा लंड फिर से चूसने लगी, जिससे मेरा माल निकल गया और वो माल खा गई।अब उसने अपनी चुत मेरे मुँह की तरफ़ की. मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि आज एक साथ मेरे सारे सपने पूरे हो रहे थे. हम लोगों की लाइफ एकदम मस्त चल रही थी, दोनों खूब सेक्स एंजाय करते थे और शादी से पहले के अफेयर के बारे में भी बात करते थे, अपनी सेक्सी कहानी एक दूसरे को बताते थे.

तुमने मुझे अच्छा दोस्त समझा पर मेरे मन में तुम्हारे लिए पाप उमड़ा उसके लिए माफी चाहता हूँ। तुम अपनी जिंदगी में हमेशा खुश रहना, तुम्हारा सुधीर!मेरे पैरों तले जमीन खिसक गई. मैंने कहा- रुक!मेरे यह कहने से वह रुक गई और पूछने लगी- बोलो क्या?मैंने उससे पूछा- कविता तुझे क्या क्या बात बताती है?.

मैंने भी गर्मजोशी से उससे हाथ मिलाते हुए अपना नाम बताया और कहा- क्षमा कीजिएगा, मैं आपकी शर्ट पर बने लोगो को देखकर आकर्षित हुआ हूँ, क्या आप सेक्स वाइफ कम्युनिटी के मेम्बर हैं?उसने हंस कर जवाब दिया- हूँ तो सही, लेकिन आप थोड़ा निराश होंगे यह जान कर कि मेरी कोई वाइफ नहीं है, और मेरी रूचि दूसरों की वाइफ में है.

कम्पन के साथ मेरे शरीर ने लावा उगल दिया… मैंने कोमल को कस कर भींच लिया. उसकी बारी आई तो उसने मेरे पूरे शरीर को चूमा। वो मेरे ऊपर थी, मैंने सोचा इसे मुंह में लंड डालने को बोलूँ पर मुझे लगा की वो नहीं करेगी और पता नहीं बुरा मान जाये… तो मैंने कुछ न कहा।कुछ देर के बाद मैंने फिर उसे उसी की स्टाइल में चूमना शुरू किया बिस्तर पर लिटा कर… अब तो वो एकदम मदहोश आँखें बंद करके अपने शरीर को अकड़ाते हुए मुझे लण्ड को गुफा में प्रवेश करने का खुला निमन्त्रण दी रही थी. मैंने उसे चोदने का मन बना लिया और मैं ऑफिस से जल्दी घर आ गया। हम लोगों का रूम ऊपर है इसलिए मैंने उसे दिन में ही चोदने का प्लान बनाया।मेरी बीवी बाथरूम में किसी कम से घुसी तो मैं भी पीछे से घुस गया और उसकी चुची सहलाने लगा। उसे मजा आने लगा, वो ‘आहह.

आज बहुत दिनों बाद मन किया कि कुछ लिखूँ… वही सब कुछ जिसका तस्सव्वुर दिल में है… मन और मन में उठती इच्छाएँ पर कोई महावत नहीं होता… इच्छाएँ स्वयं सारथी होती है जो अपनी गति अपने ही हिसाब से नियंत्रित करती हैं. कि मुझे उसका ‘वो’ कोई गरम लोहे की रॉड लग रहा था।फिर बहाने-बहाने से मैंने ‘उसे’ दबाना शुरू कर दिया।वो तो शर्मा कर पानी होता जा रहा था पर मैं ही थी इतनी तेज. ब्लैक कलर की साड़ी में वो बड़ी फाडू आइटम लग रही थीं। उनको देखते ही मेरा तो लंड खड़ा हो गया।मैं उनको एकटक देखे ही जा रहा था.

हमारे घर के बाजू में एक फॅमिली रहती है, उसमें से जिसने मेरा दिल चुरा लिया वो मेरी प्यारी सी भाभी वहाँ रहती है.

बीएफ ट्रिपल एक्स वीडियो: ’मैं अपने कपड़े ढूँढने लगा लेकिन मुझे मेरी चड्डी नहीं मिली तो मैंने बिना चड्डी के सिर्फ़ पायजामे में दरवाज़ा खोला. तभी मेरी नजर बेड के करीब के टेबल लैंप पे गई और मुझे शॉक ही लगा, आज सुबह सुबह लगभग एक घंटे पहले ही मैंने और मेरे पति ने सेक्स किया था, सेक्स के दौरान प्रोटेक्शन के लिए कंडोम्स हम दो साल से इस्तमाल कर रहे हैं.

अब हम सीधे हुये और मैंने उसकी चूत पर लंड लगाया ही था कि सुमन भागती हुई आई और सीधा मेरे लंड को पकड़ लिया और मुझे चिल्लाती हुई बोली- मैंने मना किया था!और मुझे हटाने लगी. ’ बोलते हुए चोदता रहा और फिर मेरा भी पानी निकल गया। मैं भी उससे चिपट गया।जब मैंने उसकी चूत में से लंड निकाला, तो देखा सारी चादर पर खून लग गया था। नेहा ने भी दर्द मिश्रित मुस्कान के साथ ‘आई लव यू. तो मैंने अपनी लैंगिंग्स खुद उतारनी चाही, सुधीर ने उसे उतारने में मेरी मदद की और लैंगिंग्स आधी ही उतरी थी कि सुधीर पागल सा हो गया क्योंकि मैंने पेंटी भी पीले रंग की ही पहनी थी।मैंने अपना जेब खर्च बचाकर दो हजार रूपये में दो सेट ऊंची वाली ब्रा पेंटी खरीदी थी ताकि मैं सुधीर को खुश कर सकूं.

उसी शादी में मैंने पहली बार अपनी कज़िन सिस्टर को देखा, उन्हें देखते ही पहला वर्ड मेरे मुख से निकला- वाउ…क्योंकि मैं तब तक नहीं जानता था कि वो मेरी कज़िन सिस्टर है.

यह हिंदी देसी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं उसे लेकर दूसरे कमरे में गया, मैंने अंदर से दरवाजा बंद किया और उस पर टूट पड़ा. पर हम दोनों एक-दूसरे को नहीं देख पाए थे।दूसरे दिन मैं अपने बेडरूम में लंड बाहर निकाल कर मुठ मार रहा था। उस वक्त मामी बाहर गई थीं. फ़िर हम सब ट्रेन से उतरे और दोस्तों से हाथ मिला कर उन्हें गुड बाय बोला.