बीएफ देहाती देहाती

छवि स्रोत,ब्लू एचडी हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

ಬಿಎಫ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಮೂವೀಸ್: बीएफ देहाती देहाती, वो चीखने लगी ‘नहीं … रुको … आआह मम्मीई नहींई …’मगर जब तक मेरा लंड उसकी चूत की गहराई तक नहीं उतर गया, मैं रुका नहीं.

ইংলিশ অ্যাডাল্ট ব্লু ফিল্ম

दीपक रह रह कर धीरज को मेरा जिस्म टटोलते हुए देख रहे थे।धीरज बेसुध पड़ी मुझे चूम रहा था, चाट रहा था. शादी की सुहागरात की वीडियोविलेज देसी सेक्स की कहानी में गाँव की एक लड़की की है जिस पर अपने भाई भाभी की सेक्स की आवाजें सुनकर चुदाई का मजा लेने का भूत सवार हो गया.

मेरा नाम स्वाति है और स्वाति कह कर ही बुलाओगे, ठीक है!मैंने भी बोल दिया- ठीक है मेरी जान अब आप भी मुझे आप कह कर नहीं बुलाओगी. मद्रासी चूतमेरे इस तरह से करने से भाभी चुदवाने के लिए बेचैन होने लगी थीं और मेरे सिर को पकड़कर अपनी चूत पर दबाए जा रही थीं.

उसी रात को कोमल का मेरे पास फोन आया तो हम दोनों आज के अनुभव को लेकर बात करने लगे.बीएफ देहाती देहाती: उसके इतना कहते ही मैंने उसका लोवर उतार दिया और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी कुंवारी बुर को छेड़ने लगा.

नमस्कार दोस्तो, मैं कोमल आप सबके सामने एक और सेक्स कहानी के साथ हाज़िर हूँ.उन्होंने मेरी कमर अपने पैरों से जकड़ ली और मेरी गान्ड को जोर जोर से दबा रही थीं.

चोदा चोदा - बीएफ देहाती देहाती

सिमरन पहले से चुदी हुई थी इसलिए मुझे लग रहा था कि वो आसानी से लौड़े को ले लेगी और उसकी गीली चूत से भी कोई परेशानी नहीं होगी.मैं अपने दोस्तों के घर बड़ी बेफिक्री से चला जाता हूं क्योंकि मेरे सारे दोस्तों के पेरेंट्स मुझ पर बहुत भरोसा करते हैं.

मेरे इतना कहते ही उसने उंगली निकाल ली और जोर जोर से धक्के लगाने लगा. बीएफ देहाती देहाती यह बुआ पापा की विधवा चचेरी बहन है, पापा के ताऊ जी की बेटी हैं।बबली बुआ विधवा हैं.

यह कहानी मेरे बड़े भाई की साली की चुदाई की कहानी है जब मैंने अपनी भाभी की बहन मेघा को चोदा।मेघा की उम्र 20 साल है, उसकी गांड और दूध भरे हुए हैं.

बीएफ देहाती देहाती?

दीदी कुछ भरे गले से बोलीं- तुम मेरे अलावा किसी और को नहीं देखोगे, भले शादी के बाद अपनी बीवी से कर लेना, पर अभी मुझे ही अपनी बीवी समझो. उसका घर बहुत सुंदर था बिल्कुल उसकी तरह!उसके घर के गेट पर जाकर मैंने घण्टी बजायी तो वो कुछ देर बाद काले लबादे में निकल कर आयी. वहां पर भी हम दोनों एक साथ एक दूसरे के जिस्मों को टच करने लगे और उत्तेजित होने के बाद हमने बाथरूम सेक्स किया.

मेरे खड़े लंड को देखकर वो हैरान हो गई, उसने बोला- यार … इतना लंबा लन्ड मेरी चूत में कैसे घुसेगा?मेरे समझने पर वो मान गई. संगीता भाभी उसी दिन मुझसे अब बार बार कह रही थीं- यार, तुमने तो मेरा सबकुछ देख लिया है, अब तुम अपना हथियार भी मुझे दिखा दो न!मैंने कह दिया कि अरे यार सामने से देख लेना. कसम से दोस्तो, मैंने दो बार जल्दी जल्दी आंटी की पैंटी में अपने लंड का पानी गिराया और इसके बाद मैं उनके घर चला गया.

फिर बोले- अब तुम अपना रसूख ख़त्म तो करना नहीं चाहते होगे, ये नहीं चाहते होगे कि हम सब तेरे काम में टांग अड़ाना चालू करें. मैंने भी उससे पूछा- कामिनी तुम्हारा मन नहीं करता क्या?कामिनी बोली- हां करता तो है, लेकिन मैं भी क्या करूं?इस बात पर हम दोनों हंस पड़े और अब इसी तरह से कामिनी मुझसे खुलने लगी थी. आप सबके प्यार ने मुझे बहुत ही जल्दी अगली कहानी लिखने के लिए प्रेरित कर दिया है.

चाची ने मुझे ऊपर से हटाकर बेड पर धक्का दे दिया जिससे पक की आवाज के साथ मेरा मुरझाया हुआ लंड चाची की गांड से बाहर निकल आया. सुरभि ने आंख दबा कर अन्दर पेलने का इशारा किया और मैंने पूरी ताकत से उसकी चूत में लंड पेल दिया.

लेकिन मैं डर भी रहा था कि अगर मैं कुछ करता हूं, तो हो सकता है कि ये दीदी से कह दे.

लेकिन वरूण अपनी मां को बुलाना चाहता था क्योंकि डेढ़ साल से वो अपने परिवार के सदस्यों से नहीं मिला था.

उसके गोरे गोरे चूचे और एकदम क्लीन फूली हुई चूत देख कर मेरा लंड झटके से खड़ा हो गया. मुझे आपसे कोई भी तेल नहीं लगवाना है। आप पैरों की जगह कहीं और तेल लगा देंगे।मैंने कहा- क्या हुआ भाभी?तो भाभी ने बिना कुछ जवाब दिए वहां से निकल जाना ही उचित समझा. जिस दिन हमें जाना था, उस दिन अचानक से हुसैना भाभी ने जाने से मना कर दिया क्योंकि उनको एमसी आई थी.

मैंने सीधे सीधे पूछा- तो क्या अब तक शिकारी ने शिकार किया ही नहीं!इस पर भाभी कुछ नहीं बोलीं. मैं बोला- डार्लिंग तुझे कैसे पता चला?सुरभि बोली- अबे चूतिए, मैं भी तो यहीं बाजू के क्वार्टर में रहती हूँ. यहां खड़े रह कर क्यों समय गंवा रहे हो, जाओ जाकर ललिता के जिस्म के मजे लूटो.

ये कहकर वो तीनों मेरे बूब्स पर टूट पड़े और बारी बारी से मेरे बूब्स को दबाने लगे.

शमशुद्दीन जी हंस दिए और बोले- भड़वे, हाथ मत जोड़ … सर मजाक कर रहे हैं. अब रवि ने मुझे चित लेटाकर अपने लंड में कोई रिंग जैसी चीज लगाई और चोदने को तैयार हो गया. यह पार्टी मेरी बचपन की सहेली शिखा के चचेरे भाई संदीप की शादी की थी.

एक ने फिर से मुझे खड़ा करके दुबारा से मेरी गांड में अपना लंड डाल दिया और जोर जोर से मेरी गांड मारने लगा. भाभी की ख़ुशी देख कर मुझे भी ठीक लगा कि उनको मेरा आयशा से बात करना बुरा नहीं लगा. दिशा की तबीयत कुछ ठीक नहीं है, आप मेरा एक काम कर दोगे क्या?वो- क्या काम शिखा?शिखा- भैया, दिशा को उसके घर छोड़ना है.

पायल बोली- तुम्हें मेरी नाभि क्यों पसंद आई है?मैंने कहा- क्योंकि तुम्हारी नाभि बहुत गहरी है और मुझे ऐसी ही नाभि बहुत पसंद है.

अरुणिमा का छटपटाना शुरू हुआ और वो अपने हाथ से उनकी तोंद को धकेलने लगी. फिर उन्होंने उसके दोनों हाथों को पकड़ा और मुझसे बोले- स्वप्निल! इस रंडी के दोनों हाथ तो पकड़ ज़रा.

बीएफ देहाती देहाती उसके चेहरे पर दोनों लंड का एक साथ चूत गांड में होने की असहजता झलक रही थी. कुछ सेकंड बाद सोनल कसमसाती हुई मादक आवाज निकालने लगी- आंह आंह विकु मर गई … आह साले चाट ले आह!सोनल की सांसें बढ़ने लगी थीं.

बीएफ देहाती देहाती फिर मैंने उसकी कुर्ती उतारने की कोशिश की, उसने थोड़ा विरोध किया पर मैं उतारने में कामयाब हो गया. भाई की हाइट 5 फीट 6 इंच है, वो देखने में देखने में बड़ा ही हैंडसम है.

उन्होंने बस इतना कहा कि आज शाम को वापस आ जाना … और एक दिन मत रुक जाना.

హిందీ సెక్సీ బిఎఫ్ వీడియో

जब सीखने वाले/वाली बिना कंडोम/डेंटल डॅम के लंड/ चूत चूसने की कोशिश करते, तो परीक्षक उनको रोकते. कहानी के पिछले भागशादी के बाद सुहागरात की बेसब्रीमें आपने पढ़ा कि शादी के बाद दुल्हा दुल्हन ने सुहागरात मनाई, उसके बाद विदेश में हनीमून की मस्ती की. वह इतनी गर्म हो गई और बोली- मालिक अब रहा नहीं जाता!फिर मैंने अपने लन्ड का सुपारा थोड़ा सा उसकी चूत में घुसा दिया.

इससे उसका सेक्स की मस्ती करने का उत्तर फिर से मिल जाता … अगर वो ना करती तो बात कुछ अलग होती. मैंने एक बार बाहर निकल कर आस-पास देखा और वापस उनके कमरे में चला गया, कमरे की कुंडी लगाई और भाभी के ऊपर चढ़ गया. उसके दोनों मम्मे अब मेरे बिल्कुल सामने थे, मैंने उसके एक मम्मे को मुंह में ले लिया और अब भी मेरा लंड उसकी चूत के अंदर था.

चाची मेरे पांव के ऊपर बैठ गईं और मेरो जांघों पर अपने पैर लंबे कर दिए.

लॉकडाउन में जब मैं फ्री हुई, तो मुझे लगा मुझे भी अपने जीवन की रसीली कहानियां अन्तर्वासना पर लिखनी चाहिए क्योंकि मेरा जीवन सेक्सी कहानियों से भरा हुआ है. लंड को चूत का चुम्बन मिला तो मैं चूत का कायल हो गया; लंड चूत के अन्दर घुसने को लालायित हो गया. इस बार मैं चाची को बिना परेशान किए ऐसे ही नींद में चुदाई करना चाहता था.

मगर राजेश ने एक अनुभवी चोदू की तरह लंड को जरा सा खींचा और फिर से तेज झटका दे दिया. और आपके मेरे बीच जो कुछ भी होगा, वो सबके लिए एक राज ही रहेगा आपकी और मेरी दोनों की समाज के सामने इज्जत के लिए!इतना सुन कर वो खुश हो गयी और बोली- मैं एक अच्छे और अमीर घर से ताल्लुक से रखती हूँ. मैंने देर न करते हुए दोनों हाथ आगे किए और भाभी की पैंटी की इलास्टिक में अपनी उंगलियां फंसा कर उसे खींचा तो भाभी ने गांड उठा दी.

मगर मैंने परवाह न करते हुए उसको न तो उसका मुँह हटाने दिया और न ही सिर का दबाव कम किया बल्कि तेजी से उसके सिर को मेरे लौड़े पर धक्के लगाने लगा. मैडम बोली- क्या मुझे देखते ही रहोगे या मुझे भी कुछ दिखाओगे?मैं बोला- क्या देखना है आपको?मैडम बोली- मुझे तेरा चेतक देखना है.

भाभी का शरीर थोड़ा भरा हुआ था और वह अक्सर चुस्त कपड़े पहनती थीं, जिससे उनके स्तन साफ-साफ दिखाई देते थे. थोड़े देर बाद बेडरूम से आवाज आने लगी- ठीक से क्रीम लगा, हां चूतड़ फैला कर रख, हां हां जा रहा अन्दर, थोड़ा धैर्य रख … घुस जाएगा. मैं तुम्हारी गर्भावस्था की जांच की किट लाकर दे दूंगा, तुम जांच करके देख लेना.

वो भी इस चुदाई में हमारा पूरा साथ दे रही थी।रोहित ने ज्योति से पूछा- बोल साली, आज दो लंडों से खेल कर कैसा लग रहा है?ज्योति बोली- अभी तो एक से ही खेल रही हूँ!मैं उसकी हाज़िर जवाबी पर हंसने लगा, मैंने कहा- यार तुम भी अपना लौड़ा निकाल कर हमारी हिरोइन को दो, तभी इसकी दो लंडों से खेलने की ख्वाहिश पूरी होगी.

उसके बाद जैसे ही सुपारा छेद में जाने को हुआ, मुझे ऐसा लगा जैसे कोई रेजर ब्लेड से मेरी चूत को खोल रहा हो. मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी क्योंकि मैं अपनी लाइफ में बहुत व्यस्त था. मैं धड़कते दिल के साथ ये सोचते हुए अन्दर घुसा कि अरुणिमा किस हालत में मिलेगी.

मैंने अपना लम्बा मोटा लंड उनकी चूत में पेल दिया था जिससे उन्हें दर्द होने लगा था. उसकी चूत से पानी की छप छप आवाज भी आ रही थी जिससे मुझे और जोश आ गया था.

इससे मॉम की थोड़ी कमर भी उठ गई और उनकी चूत और गांड के छेद साफ़ दिखने लगे. वो मुझे देखकर वहां से जाने लगी तो मैंने पूछा- कौन हो तुम, यहां खेत में क्या कर रही हो?तो वो बोली- कुछ नहीं, मैं तो यहीं पास में ही रहती हूं।मैंने कहा- कपड़ा हटा कर शक्ल दिखाओ. मॉम इस काम से एकदम से सिहर गईं और बोलीं- इस्स और चूस मेरी जान … मजा आ गया आज तो!आंटी की लार से मॉम की गोरी गांड गीली हो गई थी.

सेक्सी वी पिक्चर

आठ दस धक्कों के बाद मैंने अपना सारा वीर्य बहन की चूत में ही गिरा दिया.

मैंने फिर से भाभी को अपने आगोश में लिया और उन्हें समझाते हुए कहा- ठीक है स्वाति, आज से तुम सिर्फ मेरी हो. आंटी ने मुझे आवाज लगाई और बोलीं- आशु बेटा, बाहर मेरी पैंटी और ब्रा टंगी है, उसे लेकर देना. रास्ते में जब हम दोनों टैक्सी में थे, तब भाभी ने मेरे होंठों पर किस करते हुए कहा कि आज का दिन मेरी जिन्दगी का सबसे खूबसूरत दिन है.

स्मूच करते-करते उसे अपना हाथ मेरे कच्छे के अन्दर डाल कर अचानक से मेरे लंड पर एक चूंटी काट दी. मैं- हां एक बार सेक्स करने के लिए हम दोनों मिले थे, पर हो नहीं पाया था. इंडियन सेक्स देसी वीडियोउसकी गहरी नाभि जो कि अब उसके लेटे हुए होने की वजह से और भी गहरी दिखने लगी थी.

धीरे धीरे उसकी चड्डी उसके जिस्म से अलग हो गई और मैंने पहली बार उसकी चूत के दर्शन किए. बाद में हम दोनों अलग हुए और भाभी लंगड़ाती हुई उठ कर रसोई में चली गईं.

वो कसमसा कर बोली- साले कुत्ते, आगे भी बढ़ेगा या यूं ही लपर लपर करता रहेगा. मैं सलोनी भाभी की तरफ सरक आया और उनके मम्मों को धीरे धीरे दबाने लगा. वो भी 35 साल से अधिक उम्र वाली भाभी के साथ चुदाई में मुझे ज्यादा मजा आता है.

फिर उन्होंने दोबारा से अपने लंड को मेरी चूत के मुँह पर रखा और अब की बार धीरे धीरे अपना अपना लंड मेरी चूत में उतार दिया. शायद उस लड़के के लंड में इतनी ताकत ही नहीं थी कि उसकी चूत खोल सकता शायद पतला सा लंड ही रहा होगा. दीदी ने भी एक बार झुक कर अपने खरबूजे दिखाए और जल्दी से सिनेमा बंद कर दिया.

मैंने कहा- यह आप क्या कर रहे हो?उन्होंने मेरी एक भी बात नहीं सुनी और मुझे गोद में उठाकर अपने बेडरूम में ले गए.

अब मैंने लंड झांटों को साफ किया और नहा कर उसके कमरे पर जाने के लिए खुद को रेडी करने लगा. मैं अपने पहले लंड की चुदाई से लेकर 64 वें लंड की चुदाई तक की सभी कहानियां आपको प्रस्तुत करना चाहती हूँ.

वो जोश में धक्के लगा रही थी और बोली- मादरचोद यही दम था तेरे लंड में … मार मादरचोद धक्के मार मुझे!ये सुनकर मैं भी जोश में आ गया और गुस्से में उसके चूचे पकड़ कर धक्के मारने लगा. मेरी पिछली सभी कहानियों को पसंद करने के लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद. तभी राजेश व राजेश के दोस्त एक-एक करके मेरे पास आए और अपना परिचय देने लगे.

पहले से जो मेरी गांड पर लगा हुआ था, उसने भी धीरे-धीरे से मेरी गांड में अपना पूरा लंड घुसा दिया था. ऐसा क्यों?अशोक हैरान है!सविता भाभी एपिसोड 15 वीडियो रूप में देख कर पता लगायें कि उन लोगों ने पैसे क्यों नहीं लिए!आपको यह ट्रेलर अवश्य पसंद आया होगा. जैसे ही लंड बाहर आया गर्म गर्म पानी उसकी यंग पुसी से निकलकर बिस्तर पर गिरने लगा.

बीएफ देहाती देहाती भाभी- अच्छा, एक बात बताओ कि तुम्हारे पास कोई लड़की नहीं है क्या?मैं- नहीं भाभी. करीब दो घंटे बाद चाची का फोन आया तो मैंने उन्हें अपने रूम पर आने को बोला.

हीरोइनों का सेक्सी

चाची की गांड के दोनों फलक भी मैंने मसल मसल कर और अपनी मुट्ठी में भर भर कर बड़े कर दिए हैं. आंटी भी अपनी गांड को उठा उठा कर साथ दे रही थीं, मुझे गालियां दे देकर अपनी चूत का भोसड़ा बनवा रही थीं. चुदाई का यही मजा मुझे सबसे ज्यादा पसंद है कि चुदाई में लड़की तड़प उठे और उसके बाद उसे इतना मजा मिले कि वो उस मर्द की दीवानी हो जाए.

मैं- हां साली कुतिया, तुझे पता है ना जब मेरी चूत में आग लगती है तो मुझे लंड चाहिए ही होता है. फिर उनके हाथों को पकड़ा और आगे से उठा कर और तेज़ी से गांड मारने लगा. एक्स एक्स ब्लू फिल्म दिखाएंये एक्स एक्स एक्स भाभी सेक्स कहानी पिछले ही महीने उस समय की है जब मैंने एक नया नया रूम लिया था.

शायद लौड़े के बड़े और मोटे होने के कारण पूरा अन्दर तक लेने में उसको तकलीफ हो रही थी.

इसके पहले जब मैं उनके घर गया था, तब जब भाभी पहली बार प्रेगनेंट थीं. ये समझ कर मेरी चूत में चींटियां रेंगने लगी थीं, साथ ही एक डर सा भी लग रहा था कि मैं तो पिस कर रह जाऊंगी.

दस मिनट बाद अरुणिमा ड्राइंग रूम में आई तो विश्वेश्वर जी उससे बोले- आ जा, मेरी गोद में आकर बैठ जा. मैं आंह करते हुए बोला- आह मेरी लवली सुप्पी … आज जी भरके लंड चूस लो. वो हम सभी आठ बंधे लड़के, लड़कियों के शरीर, चूचे, चूत, लंड, गांड पर हाथ फेरने और दबाने लगे.

सामने से मैंने कहा- ठीक है, मैं सोफे पर सो जाता हूँ, तुम बिस्तर पर आ जाओ.

एक दो बार उसने तिरछी नजर से मुझे उसके आम देखते हुए पकड़ भी लिया मगर कुछ कहा नहीं और पल्लू भी ठीक नहीं किया. उसने मुझे गोदी में उठाया एक कोने में बिछे हुए गद्दों पर ले जाकर पटक दिया. ज्योति अब अल्फ नंगी हो चुकी थी और हम दोनों मर्द सामने से उसे देख रहे थे।अब मेरी आँखों के सामने उसकी फूल जैसी चूत थी.

एक्स सेक्सी व्हिडिओवो मुझे हुसैना भाभी के सामने भी छेड़ने लगी थी कि मैं लड़कियों से शर्माता हूँ. मैं अंकल के लंड पर बैठ कर ऊपर नीचे होने लगी जिससे अंकल का मोटा लंड मेरी चूत में पूरी तरह जड़ तक घुस गया था.

सेक्सी वीडियो देसी खेत में

उसकी चूत, गांड और उसके मुँह में एक साथ अपने लंड से उसकी मजेदार चुदाई करें. शिखा मुझसे बोली- साली यहां तुझे लंड कैसे मिलेगा?मैं शिखा से- मेरी जान, रूक तुझे दिखाती हूँ कि यहां कितने सारे लंड ही लंड हैं. जब भाभी आ रही थीं तो लग रहा था मानो कोई मॉडल लड़की बिना कपड़ों के आ रही हो.

उसकी बात सुन कर मैं अचंभित हो गया और मैंने उससे पूछा- तुम गे तो नहीं हो ना!तो किशन बोला- नहीं भैया, मैं गे नहीं हूँ … लेकिन ब्लूफिल्म देख देख कर ये सब सीख गया हूँ. मैंने मैडम को सीधा किया और उसकी चूट पर ऐसे टूट पड़ा मानो कितने दिनों से प्यासा था. सच तो ये था कि इन चारों से मैं सीधे तौर पर उलझना ही नहीं चाहता था इसलिए मन मार कर मैं बाहर आ गया.

ये ऑफिसर सेक्स कहानी उन दिनों की है जब मैं कोई भी काम नहीं करता था और काम की तलाश में इधर-उधर भटकता रहता था. उसके बाद विश्वेश्वर जी बोले- अरुणिमा रंडी! एक काम कर, घुटनों पर बैठ और हम सब का लंड बारी बारी से चूस. इसी दौरान मैं नीलिमा के बूब्स दबा रहा था और वो दोनों मेरे लंड को सहलाने लगी थीं.

नमस्कार दोस्तो, मैं सुरेंद्र सिंह सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर आप सभी पाठकों के समक्ष उपस्थित हूँ. कोमल बोली- ऐसी ही सोती रहोगी तो तुम्हारी शादी कभी नहीं होगी … और ना ही तुम्हारा फिगर सही होगा.

मैं दीदी के होंठों को चूसने लगा और उनसे कहा- नेहा डार्लिंग, अभी तक कितने लंड की सवारी कर चुकी हो?वो बोलीं- तुम्हारे जीजा, एक ब्वॉयफ्रेंड और अब तुम.

तब उसने थोड़ा बहुत बताया कि उस वक्त अजीब सी फीलिंग हुई थी, जब तुम बूब्स को चूस रहे थे. जवान लड़की चुदाईइससे भाभी और ज्यादा उत्तेजित हो गईं और मेरे बालों को नौंचने लगीं; मेरे माथे को जोर से दबा कर अपनी चूत में दबाने लगीं. चुदाई करने वाली सेक्सीघर में मैं जब तब मौका देख कर अपने भाई का लंड निकाल कर चूस लेती हूँ. शर्मा आंटी ने मुझसे कहा- खूब अच्छे से तैयार होकर आना ललिता, तुम्हारे अंकल तुम्हारे डांस की बहुत तारीफ कर रहे थे.

वो बाथरूम से बाहर आई, तो मैं उसे देख कर पगला गया क्योंकि मैं उसको इस रूप में पहली बार देख रहा था.

अब उसकी कुंवारी चूत मेरे सामने थी एकदम गोरी चिकनी … जिस पर झांट के छोटे छोटे बाल थे. अब वो कामुक आवाजें निकालने लगीं- ओह ह्म्म … आह और जोर से चोद साले और ज़ोर से पेलो, मुझे तुम्हें अन्दर तक लेना है. फिर वैसा ही हुआ बाइक पर बैठ कर चाची ने अपने दोनों हाथ मेरे पेट के ऊपर बांध दिए और पीछे से मुझसे चिपक कर बैठ गईं.

अमृता भाभी बोलीं- हम्म … मैं बात करती हूं तुम्हारे भाई से … अभी वो लैपटॉप से फ्री हो जाएं. मैंने अपनी हालत संभाली और कहा, अरुणिमा! विश्वेश्वर जी हमारे सबसे आदरणीय हैं, अच्छे से उन सबका लंड चूसो. मैं अब आपको एक स्पेशल मालिश दूँगा, आप बस एन्जॉय करना … और कुछ मत बोलना.

लहान मुलीचा सेक्सी व्हिडीओ

अगले भाग में मैं फौजिया की चुत की सीलतोड़ चुदाई की कहानी का मजा लिखूँगा;मेरी जवानी का सेक्स कहानी के इस भाग पर मुझे आपके मेल का इन्तजार भी रहेगा. तब भी मुझे लगा कि कुछ हो सकता है तो मैंने भी बहती गंगा में हाथ धोने का मन पक्का कर लिया. मैं इतना मोटा लंड अपने मुँह में लेते ही एकदम से चौंक गयी और सोचने लगी कि इतना मोटा लंड मेरी चूत को फाड़ न डाले.

मैं प्रिया को अपने दिल की बात बोलता जा रहा था- प्रिया, मुझे तुम पहली नजर में ही इतनी पसंद आ गई थी कि मैं तुम्हारा दीवाना हो गया था, तुमको बार बार देखने के लिए मैं तुम्हारे आसपास रहने का बहाना ढूंढता था.

वो बोलीं- पैरो को छोड़कर कुछ और भी चाट सकते हो?मैं समझ गया और मदांध हो गया.

थप्पड़ का दर्द अभी भी गाल पर हो रहा था तो मैं उनको मना ही नहीं कर सका. कुछ देर बाद राजेश उछल कर हौद की दीवार पर बैठ गया और मुझे लंड चूसने का इशारा किया. देसी भाभी सेक्सी फिल्ममैंने कहा- आज सारी रात मैं तेरी दोनों तरफ से चुदाई करूंगा और तेरी आग ठंडी कर दूंगा.

वरूण की मम्मी तलाकशुदा औरत हैं जिनका तलाक कुछ सालों पहले ही हुआ था. अब ये दूसरा राउंड था तो स्वाभिक तौर पर झड़ने में टाइम तो लगना ही था और ये दोनों रुक रुक कर अरुणिमा को चोद रहे थे तो और ज्यादा समय लगने की उम्मीद थी. वो बोली- घर पर क्या तेरी बीवी तेरा इंतजार कर रही है?मैंने कहा- अभी मेरी शादी नहीं हुई है.

अपनी गांड को पीछे दे देकर लंड पर मार रही थी मैं … जिससे और ज्यादा मजा आए. फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों कंधे पकड़े और एक धक्का लगा दिया.

वो गर्म हो गई और मेरे साथ सेक्स करने लगी, चूत को मेरे लंड पर पटकती हुई बोली- ठीक है, तुम्हें जो करना है, करो.

‘मैं अब तुम्हारी पैंटी के पास अपने होंठों से प्यारी किस कर रहा हूँ और थोड़ी सी पैंटी उठा कर तुम्हारी चूत की महक ले रहा हूँ. अब मुझे भरोसा हो गया था कि चाची मेरा सिर्फ अपने चुदाई की भूख मिटाने के लिए मेरा इस्तेमाल कर रही हैं और कुछ नहीं. आंटी- एक और बात, यदि कोई यह काम छोड़कर कोई दूसरा काम करना चाहे, तो ट्रेनिंग का पैसा चुकाने के बाद यह काम छोड़ सकता है.

इंडियन बीपी व्हिडिओ सेक्स ना जाने मुझे क्या हुआ था। इसलिए मैं तुम्हें किसी चीज़ को मना नहीं कर पाई।कपड़े पहन के आंटी एकदम से सही हो गईं. मैंने ध्यान दिया कि मैंने तो पेज बंद कर दिया था, फिर ये कैसे खुल गया.

अब मैंने लंड को चूत के मुँह पर सैट किया और एक झटका लगाया, जिससे आधे से ज्यादा लंड चूत में चला गया. ऐसा लगता था कि अभी अभी ही सवेरा हुआ है … और सूरज भी अभी नहीं निकला था. पहले तो चाची ने मना कर दिया मगर जब मैंने कहा- लंड चूसो यार … आपको मस्त मज़ा आएगा.

सेक्सी गाना हिंदी सेक्सी

मैंने कहा- क्यों तेरा पति तुझे चोदता नहीं है क्या?वो बोली- उसका लंड नर्सों की चूत में ही घुसा रहता है. मैं उसके होठों को चूसने के साथ साथ एक हाथ से उसके मम्मों से खेल रहा था और अपना दूसरा हाथ उसकी पूरे शरीर पर चला रहा था. मैंने झुक कर देखा तो पता चला कि चारों कमर के नीचे नंगे होकर बैठे थे और अरुणिमा पूरी नंगी डाइनिंग टेबल के नीचे थी.

मेरी वासना मेरे दिमाग का दही कर रही थी पर मुझे लंड नहीं मिल रहा था. मेरे इस तरह से करने से भाभी चुदवाने के लिए बेचैन होने लगी थीं और मेरे सिर को पकड़कर अपनी चूत पर दबाए जा रही थीं.

पायल के मुँह से सेक्सी आवाज़ आना शुरू हो गई- इस्स्स आअहह उईई मर गई … आह बड़ा मस्त लग रहा है निखिल … अपनी जीभ को थोड़ा और अन्दर करो ना … आह्ह्ह मज़ा आ रहा है … ऐसा मस्त चूसना कहाँ से सीखा तुमने?मैंने कहा- कहीं से नहीं, तुमको देखकर अपने आप नाभि चूसने का मन करने लगा.

मैंने उसके बाद टैबलेट और कॉन्डम निकाली और पूछा- इनमें से तुम क्या यूज करना पसंद करोगी?उसने गोली चुनी. जब आज आप मुझे खुश करेंगे, तभी तो कल मैं आपको खुश करूंगी!मैं ना चाहते हुए भी मान गया।उसने फिर से मेरे पैरों के बीच पैर डालते हुए इस बार एक झटके में खोल दिए. अगर मुझे लगता कि मेरा निकलने वाला है, तो मैं रुक जाता और थोड़ी देर बाद फिर से धक्के लगाना चालू कर देता.

मैं पक्का किसी से नहीं कहूँगी तेरी गर्लफ्रेंड के बारे में!तो मैंने कहा- चिंता मत कर, मुझे खुद से ज्यादा तुझ पर भरोसा है।उसको ये बात काफी अच्छी लगी और मज़ाक में मेरे गाल पर किस कर दिया और बोली- औ … सो स्वीट!तो मैं उसको मज़ाक मज़ाक में चिढ़ाते हुए हवा में किस करने लगा और मज़ाक बनाने लगा. उसके चेहरे पर दोनों लंड का एक साथ चूत गांड में होने की असहजता झलक रही थी. उसके अनुसार वो बुड्डा उसके सामने ज्यादा देर नहीं रुक पाया क्योंकि एक 22-23 साल की लड़की और 55-60 का बुड्डा क्या सेक्स कर पाता, ये तो आपको भी पता है.

मैं चुपके से किचन में गया ओर चाची को पीछे से अपनी बांहों में जकड़ लिया.

बीएफ देहाती देहाती: मुझसे दर्द सहन नहीं हुआ और मैं एकदम से बेहोश सी हो गई पर उसने मेरी तरफ कोई ध्यान नहीं दिया. उसके निप्पल काटने से मुझे चूत से ज्यादा दर्द निप्पल में हुआ और मैं उसे गाली देते हुए मना करने लगी- मादरचोद, रुक जा कमीने … साले मेरा निप्पल उखाड़ेगा क्या!उसने निप्पल छोड़ दिया और मुझे चूमने लगा.

फिर हमने कपड़े पहने और बाहर आने लगे मैंने देखा कि वो थकी हुई लग रही थी. मैंने अब उसके दोनों चूतड़ों को उसके पीछे से पकड़ा और अपने लंड को उसकी चूत पर रख कर पीछे से उसकी चूत में डाल दिया और उसे पीछे से चोदने लगा. मैंने मदहोशी में अपनी आंखें बंद कर लीं और जोगी सर मेरे होंठों को चूमने लगे.

अब विक्रम ने अपना एक हाथ मॉम की चूत पर रखा और चूत की पुत्तियां मसलने लगा.

वहां कॉलेज में पढ़ने वाले दो लड़के थे जो जुड़वां भाई हैं।हम सब जानते हैं कि हमारी सविता भाभी को नए नए लोगों से खासकर जवान लड़कों से दोस्ती पसंद है. अब आगे यंग पुसी सेक्स कहानी:मैंने उसके एक पैर को हाथों से उठाया और उसके पैरों के नाखूनों से उसे चूमना शुरू कर दिया. इतना सब कुछ अन्दर होने के बाद भी हॉल काफी बड़ा था, जिसमें एक साइड में कुछ पुरानी कुर्सियां व गद्दे लगाकर डीजे सैट किया हुआ था, नाचने और बैचलर पार्टी के लिए अच्छी खासी जगह बनाई हुई थी.