सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी

छवि स्रोत,राजस्थानी सेक्सी वीडियो ओपन सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

अनारा गुप्ता सेक्स: सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी, छाया ने उससे बात की और उसे बताया कि ऐसा ऐसा है, तो क्या मैं तुम्हारे यहां 15 दिन तक रह सकती हूँ या तुम चाहो तो मेरे यहां पर रह लो.

ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो एक्स एक्स

मगर मुठ मारते वक्त गांव की सभी कुंवारी बालाओं व भौजाईयों की चूत मारता था. पंजाबी सेक्सी चोदने वाला वीडियोमैंने हाँ में सर हिला दिया मगर अंदर से मेरी फटी पड़ी थी कि पता नहीं कुछ हो भी पाएगा मुझसे या नहीं।फिर चाचा बोले- तो चलो फिर शुरू करो, मैं भी देखूंगा.

संजय मुझे लगातार किस कर रहा था और मैं अपने आपको उससे छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी. मुक्ति सेक्सीमैं धीरे धीरे उनके पेट को चाटते हुए उनकी नाभि पर आया, नाभि में जीभ घुसा कर कहता तो उनको मजा आया.

जब लड़की देखने जाने की बात आई तो पहले तो मैंने खुद जाने से मना कर दिया कि पराई लड़की को क्या देखना; आखिर कल को मेरी बेटी भी तो है उसे कोई नापसंद करके चला जाय तो हम पे क्या बीतेगी, यही सब बातें सोच के मैंने अपनी होने वाली बहू को देखने जाने से मना कर दिया.सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी: उसमें से तीन सीडी के कुछ अंशों का मैंने क्लोन बनाया तथा उन्हें अलग कर रख लिया.

फिर वो मेरे बूब्स पर आ गया और उसने मेरे बूब्स भी मसाज करना शुरू कर दिया.गंदा वाला शॉट फॉरवर्ड करेगा तो देखूंगी?”गरम बातों से शायद उसे फिर एक बार ट्राय करने की इच्छा हुई होगी.

నమిత సెక్స్ వీడియోస్ - सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी

कॉलेज में जब किसी कपल को साथ घूमते देखता था, तब तो मेरे जिस्म में एक आग जैसी लग जाती थी.तभी उस आदमी को किसी ने आवाज़ लगाई, उसने मुझसे बोला- आप इनको लेकर चले जाओ… पार्किंग में देख के आ जाओ… मुझे कोई बुला रहा है.

मैं भी उन्हें किस करने लगा और एक हाथ से उनकी चुची को नाईटी के ऊपर से दबाने लगा. सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी बहुत ही किस्मत वाले होते हैं वो लोग जिन पर कोई नारी इतना विश्वास करती है कि उन्हें अपने गोपनीय नारीत्व के प्रतीक अंगों को निहारने और छूने की इज़ाज़त देती है.

मेरा 7 इंच लम्बा 5 इंच मोटा लंड बिल्कुल तन चुका था और पेंट तंबू बन चुका था.

सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी?

मैं समझ तो गया था कि दीदी ऐसा क्यों बोल रही हैं, तो मैंने भी बोल दिया- ये सब आपके साथ नहाने की वजह से हुआ है. दीदी ने एक स्वीट स्माइल दी और लंड पर हाथ चलाती रही, तभी मैंने खुद का पूरा भार दीदी के जिस्म पे डाल दिया जिस से दीदी का हाथ मेरे लंड से हट गया और मैंने खुद अपने हाथ से लंड को पकड़ा और दीदी की चूत के ऊपर अपने लंड की टोपी को रगड़ने लगा और फिर से दीदी के बूब को मुँह में भर लिया. मम्मी की कसम, दीदी मुझे पता नहीं जवानी में चूत की तड़प ऐसी भयानक होती है, दीदी तुम चुदाती हो, यहाँ वहाँ मुँह मारती हो.

अपनी प्रियतमा से ऐसे पशुवत व्यवहार की कल्पना भी अपराध है!!! थू… थू… थू!!!’मैं थोड़ा सयंत हुआ और कार के शीशे चढ़ा कर मैंने कार मंथर गति से आगे बढ़ाई।क़स्बे की हद से निकलते ही मैंने हिम्मत कर के अपना बायाँ हाथ गियर रॉड से उठा कर प्रिया के दायें हाथ पर रखा दिया। तत्काल एक लहर सी प्रिया के रोम रोम से गुज़र गयी जिसे मैंने स्पष्ट महसूस किया. शादी में भाभी की चाची की बहन जो कि बहुत ही सुंदर, सेक्सी, स्मार्ट, जैसे किसी ने माधुरी दीक्षित की कॉपी ला के खड़ी कर दी हो, जैसी लग रही थी. मुझे पता चला कि वो किसी केशधारी लड़के से प्यार करती हैं और शादी करना चाहती हैं.

कहीं तुम्हारे मम्मी पापा तो नहीं होंगे?अवी- नहीं बेबी, कोई दोस्त होगा. मैंने विनोद को कुछ देर रुकने को कहा, पर वो कहने लगे कि स्वाति उसके सामने खुल नहीं पाएगी, इसलिए वो नहीं रुकेंगे. मैंने अमित को एसएमएस किया- हाँ अमित, अवी ने हाँ कहा है अब बताओ मुझे क्या कब और कैसे करना है?अमित- एक लड़का है सैम तुम्हें उसकी गर्लफ्रेंड 15-20 दिन के लिए बनना है बस.

उस्मान माया के मम्मों को घूरते हुए बोला- क्यों मैडम, सुमित सर ने ज्यादा परेशान तो नहीं किया ना?नहीं उस्मान, अभी मुझे जल्दी है मैं बाद में बात करती हूँ. दीदी- सन्नी, लंड चूसने के लिए तुमने सारे कपड़े क्यूँ उतार दिए?मैं- अरे दीदी जब मस्ती ही करनी है तो पूरी तरह करो ना!दीदी- नहीं सन्नी, मैं इस से आगे कुछ नहीं करूँगी.

अभी थोड़ा ही लंड मेरी चुत में घुसा था पर इतने से ही मेरी तो चीख निकल गयी.

मैं बहन के पैरों के बीच में बैठ गया और उनके पैरों को फैला दिए, उनकी चूत को अपने हाथ से फैला कर उसकी चूत के अन्दर वाले हिस्से को देखने लगा.

उसने अपनी आँखें बंद की हुई थीं, मैंने उसकी आँखों को चूमा और अपने हाथों से उसकी आँखें खोल कर उसे अपने आगोश में भर लिया. तभी वो सब भी अन्दर आ गए और उसको बताने लगे कि उन्होंने सब कुछ देखा है. कामिनी से जब बर्दाश्त के बाहर हो गया तो उसने अपनी टांगें बिल्कुल धनुष की तरह फैला दीं और बोलने लगी- आह डालो न विवेक.

सही सही बताओ मजा आया कि नहीं?वह भी जानता था कि मुझे कितना मजा आया था, पर वह मेरे मुँह से बुलवाना चाहता था. वो तो अच्छा हुआ कि उनके मुँह में ब्रा थी… नहीं तो उसकी इस बार बहुत तेज चीख निकलती. करीब दस मिनट तक चूसने के बाद मैं उसके मुंह में ही झड़ गया और उसने मेरा पूरा वीर्य पी लिया.

हमें डर था कि कहीं कोई आ न जाए तो मैंने उसकी जीन्स पूरी नहीं उतारी.

हम दोनों चुदाई में एक दूसरे के साथ डूबे हुए थे, हमें दुनिया की कोई फ़िक्र ना थी. मैंने पूछा- क्या हुआ?तो कहने लगी कि मैंने भी कभी गांड नहीं मराई है. वो एकदम से सिहर उठी और मेरा हाथ हटाने लगी, पर मैं नहीं माना और उसकी ब्रा हटा कर सीधा उसका राइट चूचे पकड़ लिया.

आपकी माया त्रिवेदी[emailprotected]इसके बाद क्या हुआ, इस कहानी में पढ़ें :गान्ड बची तो लाखों पाये. भारत में काफी परिवारों में सोने के जेवर पैरों में नहीं पहनते लेकिन हमारे घर में ऎसी कोई रोक नहीं है. अब मेरा पूरा डर खत्म हो गया, मुझे राहत की सांस लेने का मौका मिला, अब मेरे अंदर सिर्फ जिस्म की भूख बची थी.

डिनर करते वक्त आंटी की निगाहें मुझ पर ही टिकी थी, मैं समझ रहा था कि आंटी भी प्यासी हैं.

मुझे उनकी आँखों में एक अलग ही चमक दिख रही थी, ऐसा लग रहा था जैसे वो किसी आग में जल रही हों और मुझसे उसको शांत करवाना चाहती हों. मेरी सास ससुर का कमरा नीचे है और हमारा कमरा ऊपर वाले फ्लोर पे…मेरे देवर का कमरा भी ऊपर ही है.

सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी स्कूल की छुट्टी हुई और मैं घर गया तो अपनी मोबाइल की तलाश करने लगा तो माँ ने पूछा- क्या कर रहे हो?तो मैं बोला- अपना मोबाइल ढूँढ रहा हूँ…तो उन्होंने बोला- वो मेरे रूम में है, ले लो!तो मैंने मां के कमरे में जाकर मोबाइल लिया और सोचा कि वीडियो डिलीट कर दूँ लेकिन मोबाइल में वीडियो तो थी ही नहीं. मैंने उसकी एक ना सुनते हुए और एक झटका लगाया तो मेरा पूरा का पूरा 7 इंच का लंड उसकी चुत के अन्दर घुसता चला गया.

सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी यूं ही खाना खाते खाते हमारी नजरें एक दूसरे से टकरा गईं और हमने एक दूसरे को स्माइल पास कर दी. अब तक अवी भी आ गया था तो केक कटा, फिर सभी डांस करने लगे मैं भी कर रही थी.

अब जो कहानी कहानी आप पढ़ेंगे, उससे आपके लंड से पानी निकल जाएगा और चुत गीली हो जाएगी.

सेक्सी ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ बीएफ

मैं अपने रास्ते पर ही था कि अचानक से एक कार मेरे बिल्कुल पास से आगे निकली, जिसमें मेरी दीदी आगे बैठे हुई थीं, मैंने दीदी को पहचान लिया था. कुछ बात जिसका अंदाजा मयूरी नहीं लगा पा रही थी, वो था मोहन लाल का अतीत या उसका गुजरा हुआ कल. जब मैं बुआ के घर जाता या जब वो मेरे घर आतीं, तो हम दोनों खूब धमाल मचाते थे.

मैं कमल के सामने बिना कपड़ों के बेड पर पड़ी थी और कमल के सामने खुद को ऐसे दिखा रही थी, जैसे मैं बहुत शर्म कर रही हूँ. कोई दस मिनट तक होंठ चूसने के बाद वो हांफने लगीं और ज़ोर से साँसें लेने लगीं, जिससे उनके चूचे ज़ोर से ऊपर नीचे होने लगे. मैं भी डर के मारे दूर हो गई तो अवी ने कहा- डियर देखता हूँ मैं… तुम यहीं रहो, जब मैं कहूँ तब बाहर आना.

विवेक ने कामिनी को ऊपर खींच लिया और उसको पूरे बदन में किस करने लगा, मम्मे बुरी तरह से मसलने लगा.

फिर रोहण ने धक्के मारना शुरू कर दिया और फिर हमारी चुदाई की आवाज पूरे रूम में गूँज रही थी. मैं कुछ देर रुक गया।थोड़ी देर में उसने अपने कूल्हे हिलाने शुरू कर दिए तो मैं समझ गया कि अब दर्द कम हो रहा है। बस फिर मैं अपने लण्ड को हिलाने लगा। उसकी चूत में मेरा लण्ड टकराने लगा। वो हिल-हिल कर लण्ड का स्वाद लेने लगी। मैं धक्के मारने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी। करीब 5 मिनट के बाद दोनों एक साथ झड़ गए. वे सिगरेट पी रही थीं, ऐसा लगता था वो दो पैग लगा कर फूफा जी से चुदवाने ही आई थीं.

मैं- क्या मैं आपको तेल की मालिश कर दूँ?मामी- ये आईडिया बहुत अच्छा है. मैंने जैसे ही उनकी पेन्टी पर अपना मुँह लगाया, वो सिहर उठीं, उनके मुँह से ‘अह्हा…’ की आवाज निकली. मैं क्या कर सकती थी, मेरे प्यार ने मुझे उसकी कसम दी थी,मैं दर्द सहती गई, मेरे आंसू बहते रहे पर दो बरसों से चूत का भूखा वो अंकल धक्के मारता, मेरे पैर ऊँचे हो जाते, लंड मेरे पेट में आंतों को छूता.

आओ ना…” प्रिया की गुहार सुन कर मैं बेखुदी के आलम से वापिस पलटा। मैंने बहुत ही नाज़ुकता से प्रिया को अपनी गोदी में बिठा कर आगे-पीछे हिलना शुरू कर दिया. फिर राजधानी एक्सप्रेस के प्राइवेट केबिन में डेढ़ दिन यानि पूरे 36-37 घंटे वासना और चोदन का नंगा धमाल होना तय था.

मैंने पूछा- भैया आपने भाभी को कल अपने सुहाग का शगुन क्यों नहीं कराया?भैया गुस्से से रोशनी को देखकर बोले- मुझे रोने चिल्लाने वाली कच्ची कलियां बिल्कुल पसंद नहीं, मैं तो केवल आंटियों को ही चोदता हूँ. प्लेट उठाते वक़्त भाभी के गोल गोल मम्मे दिख रहे थे, जिससे मेरा लंड खड़ा हो गया और वो पैन्ट के ऊपर से मेरे लंड को देखने लगी. हम एक ही सोसाइटी में रहते थे तो ये हमारे लिए ज़्यादा मुश्किल नहीं था.

फिर मेरा लंड जो एक बार ले लेती, उसे दुबारा पाने की उसकी लालसा बनी रहती.

रात करीब एक बजे दीदी ने जब करवट बदली तो उनकी गदराई गांड मेरी तरफ थी. मैं चाची के रूम से तौलिया ले आया और बाथरूम के बाहर खड़े होकर बोला- अब आपको अन्दर आकर कैसे दूँ?चाची बोलीं- तू तो मेरे बेटे जैसा है, फिर शरम कैसी?इतना कह कर उन्होंने अपना हाथ बाथरूम के दरवाजे में थोड़ी जगह करके बाहर निकाला और मैं उन्हें तौलिया पकड़ा ही रहा था, मगर उनके साबुन लगे होने के कारण उनका पैर स्लिप हो गया और वो बाथरूम में ही फिसल गईं. उसने एक बार फिर मेरे को गले लगाया जोरदार चूमा और फिर बोला- वाह दोस्त वाह मजा बांध दिया.

आह… और मेरा बेटा… चूस ले, निचोड़ दे अपनी माँ की चूत को!मेरे पूरे चेहरे पे मेरी माँ की चूत का पानी लग गया था. ऐसा लग रहा था कि मैं जन्नत में हूँ और अवी भी मेरे पास आकर मेरे खुले पेट पर हाथ रख कर लेट गया.

मैं भी थोड़ी देर रुक गया और भाभी के होंठ चूसने लगा, चूचे दबाने लगा. उन्हीं मेल में से एक मेल आरती नाम की एक महिला की भी आई, जिसमें उसने मेरी कहानी की तारीफ करते हुए मुझे लिखा कि आपकी कहानी बहुत अच्छी है. सुमित समझ चुका था कि लोहा गर्म है, लेकिन वो माया के साथ ज़बरदस्ती करके मज़ा ख़राब भी नहीं करना चाहता था.

इंग्लिश बीएफ सेक्सी फिल्म वीडियो

मेरी ताई ने एक साड़ी पहन रखी थी, उनका ब्लाउज काफी टाइट था, जिसमें उनकी चूचियाँ बाहर की तरफ आ रही थीं.

मैं घर में घुसा तो देखा एक खूबसूरत, गोरी-गोरी लड़की सोफा पे बैठी थी और दो बच्चे खेल रहे थे. पर इस बार उसकी चूत हल्की चिपचिपा रही थी, मैं उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाल कर अंदर बाहर करने लगा और कविता की सीत्कारें आ…ह आह आह… आवाज तेज हो गयी. इस आसन में भाभी के चूचे बहुत तेज़ी से उछल रहे थे, तो मुझे जोश आ गया और मैं उनके मम्मों को पकड़ कर ज़ोर से दबाने लगा.

मगर मैं रुका नहीं, मैं उनके दोनों पैरों के बीच बैठ गया और थोड़ा सा ऊपर हो कर उनकी नंगी चूचियों को चूमने चाटने लगा, ममता जी की चूचियों को चूमते हुए मैं अपने शरीर का भार डाल कर धीरे धीरे उन्हें बिस्तर पर भी धकेल रहा था. अब चाची की चूत में रस बहने लगा था जो किसी रसीले आमरस की तरह मेरे हाथ को महसूस हो रहा था. देसी सेक्सी वीडियो देसी सेक्सभाभी उठ कर झट से खड़ी हो गईं, तो मेरी नजर उनके हाथ में एक किताब पर पड़ी, जो कि सेक्स से सम्बंधित कहानियों की थी.

थोड़ी देर के बाद भाभी ने कहा- अपने कपड़े उतार दो और मेरे अन्दर घुस जाओ, मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा. मैंने फिर धक्का दिया, तो उन्होंने अपने नाख़ून मेरी पीठ में गड़ा दिए और होंठों को चूसने लगीं.

करीब 5 मिनट का लम्बा स्मूच करने के बाद मैंने उसकी सलवार खोल दी और चुत में उंगली करने लगा. इससे मैं काफी दु:खी रहने लगा, अब मैं न ज्यादा किसी से बात करता था और न ही ज्यादा बाहर जाता था. मैं कॉलेज से शाम को 4 बजे तक आ जाता था और दीदी के ऑफिस का टाइम भी 5 बजे का था लेकिन अब वो 8 बजे के पहले नहीं आती थीं.

मैं दो मिनट रुक गया और फिर एक धक्का लगाया तो उसकी चूत से खून आने लगा और वो भी दर्द से रोने लगी. ’ मेरा पूरा तन और मन अब वासना की आग में डूब चुका था और मैं अपनी सारी मर्यादा भूल चुकी थी, मैं भूल चुकी थी कि मैं शादीशुदा हूँ और अपने शौहर से बहुत प्यार करती हूँ, मैं दो बच्चों की अम्मी हूँ, किसी के घर की इज्ज़त हूँ. मैंने जरा भी देर न करते हुए तौलिए को उस मखमली बदन से दूर किया और अब मेरे सामने पूरी तरह से नंगी चाची थीं.

कोठरी में बत्ती जलाई तो जली नहीं, शायद वहाँ का बल्ब कब का फ्यूज हो चुका था.

एक घंटे की बाद मुझे फिर से जोश आ गया और मैं फिर से उसकी मारने को तैयार हो गया. मैंने अन्दर आकर बैग खोला तो हैरान रह गई क्योंकि उस ड्रेस में सभी चीजें थीं, मतलब सैंडल से लेकर नेलपॉलिश तक.

उस दिन हम दोनों ही घर में थे, इसलिए मैंने और भाभी ने जल्दी खा लिया. अब तो मुझे भी उनके बारे में सोच कर थोड़ा दुख भी हुआ क्योंकि मधुरा सेक्स के लिये काफी दुखी दिख रही थीं. मैंने आगे के दोनों बटन बंद कर लिए और जहाँ तक हो सका, खुद को छुपाने की कोशिश की.

मैं दीदी के ज़्यादा से ज़्यादा बूब्स को मुँह में भरने की कोशिश कर रहा था और दीदी की तरफ देख रहा था. फिर मेरी छोटी सी कमर को पकड़ कर वह वैसे ही कमोड पर मुझे झुकाए मेरी चूत चोद रहा था. मैंने अंजू से कहा- अंजू, तुम तो कह रही थीं कि लड़के कमेंट करते हैं? जिस किसी ने भी मुझे देखा.

सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी ! तुझे पता भी है कि तू क्या बोल रहा है? ऐसा नहीं हो सकता ऐसा सोचना भी पाप है. इसी वक्त उसके चूचे मेरी नंगी छाती को लग से गए थे, जिससे मेरे लंड ने झटका मारा, जो उसकी जीन्स को जाकर लगा.

स्कूल वाली लड़की बीएफ

कुणाल ने मेरी माँ से कह दिया कि आंटी आज रवि दोपहर को घर खाना खाने नहीं आएगा, हो सका तो हम कल सुबह घर वापिस आएंगे. सामने से खुलने वाला गाउन खुलते ही वो मेरे सामने लाल कलर की ब्रा पैंटी में थी. मैं- मेनका आह… मेरा लंड आह या आह आह फॅट रा है आह… कुछ करो वरना मैं मर जाऊँगा… आह आ…मेनका- ऐसे ही थोड़ी मरने दूँगी मैं अपने राजा को… अभी तो इसे एक ज़रूरी काम करना है.

”क्या मतलब? लड़कियों के?”जब मर्द लड़की की चाटता है, तो इतना गंदा नहीं लगता. बेहद उत्तेजक दृश्य लग रहा था ऊपर से बहूरानी की सोने की पायलें और बिछिया… इन सबका कलर कम्बिनेशन लाजवाब था. टॉप 10 सेक्सी वीडियोमैं- मेनका आह… मेरा लंड आह या आह आह फॅट रा है आह… कुछ करो वरना मैं मर जाऊँगा… आह आ…मेनका- ऐसे ही थोड़ी मरने दूँगी मैं अपने राजा को… अभी तो इसे एक ज़रूरी काम करना है.

मैंने भी उनका दिल रखने के लिए हाँ बोल दी और हम दोनों खाना खाने लगे.

वो बोली कि हां बदल तो मेरी भी रही हैं लेकिन हमारी इस फीलिंग्स का कोई फायदा नहीं. पाँचवें पेग के बाद वो अकीरा को गोद में उठाये ही खड़ा हो गया और दे दनादन अकीरा को चोदना शुरू कर दिया.

मैंने ममता की साड़ी को उसके जिस्म से अलग किया और उसकी नग्न नाभि को अपनी जीभ से सहलाने लगा. इतना कह कर मैं उनके मम्मों पर फिर से टूट पड़ा और अपने जीभ उनके निपल्स पर फिराते हुए चूसने लगा. अब मुझे सेक्स स्टोरी लिखने का काफ़ी टाइम बाद मौका मिला तो सोचा आज कुछ मजेदार लिखता हूँ.

उसकी ये आवाज़ पूरे रूम में गूँज़ रही थी उसने अपनी नाइटी को ऊपर करते हुए उतार लिया और कहा- तुझे साइज़ पता नहीं है ना.

”अभी तो डर रही थी साली कुतिया पहले मुझे चुदना है, लेकर मैं लेकर आई हूँ तुझे यहाँ. अब मैंने एक हाथ उनके सीधी तरफ वाले चूचे पर रख दिया और दूसरा हाथ उनकी गांड पर रख दिया. अचानक उनका पेटीकोट उनकी चुचियों पर से पूरा सरक गया तो उनका पेटिकोट नीचे गिर गया.

औरत को सेक्सी फिल्मइधर रमेश एक हाथ से काजल की चूत पर हमला किया जा रहा था और दूसरे हाथ से उसने उसकी एक चुची को संभाल रखा था. मैंने अपने रिश्तेदारों से कह दिया है कि स्वाति की अभी ट्रेन में बुकिंग करवाई है, वो थोड़ी देर मैं मुम्बई से निकल कर 4 घंटे में यहां पहुँचेगी.

बीएफ बीएफ देखने वाला बीएफ

पदमा की गांड में जबरन बल पूर्वक मोटा लंड घुसाने से उसकी दर्द के मारे चीख निकल गई- आऐईईइ ऊऊऊ ऊऊऊऊ मादरचोद मार दिया. चाचा जब भी मेरे घर आते थे तो वो मैगज़ीन लेकर आते थे जिसमें नंगे लड़के लड़की सेक्स करते हुए रहते थे और हम दोनों लोग नंगी फोटोज देखते थे. चाची तो झड़ गईं, पर मेरा अभी नहीं हुआ था, उनकी चुत का गरम माल मुझे मेरे लंड पे महसूस हो रहा था.

उनका एक 5 साल का बेटा था और उनके पति एक प्राईवेट कम्पनी में काम करते थे. मुझे हर बार इतना आश्चर्य होता है यह देख कर कि रोजमर्या के जीवन में इतनी कोमल, नाजुक लड़की, जिसके लिए पानी का भगोना उठाना, या सोफा चेयर खिसकाना भी बहुत मुश्किल का काम है, कितनी पारंगता के साथ विकराल लंडों को अपने शरीर में घुसवा लेती है!इस समय वो अपनी कलाई जितनी मोटाई वाले दो दो लंडों से अपने सारे छेद फोड़वाए जा रही थी! मैं उसे इस समय ओमार के मोटे-खूब लम्बे लंड पर कूदता देखते हुए गर्व से भर उठा!आआआआह. मोना- अब कितना तड़पाओगे जानू? डाल दो नाआनन्द- तड़प में ही मज़ा है जान.

चाची मुझे खाना देने के लिए जैसे ही झुकीं, तो उनकी चूचियां साफ नजर आ रही थीं. चाचा जब भी मेरे घर आते थे, वो मुझसे मजाक करते थे और हम दोनों लोग कभी कभी एक दूसरे के साथ खेलते भी थे लेकिन मैं चाचा के बारे में कुछ गलत नहीं सोचती थी. इसी तरह की बातों में मालूम हुआ कि मधुरा उनसे सेटिस्फाइड नहीं होती हैं.

वो चिल्ला रही थी… मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रख कर उसका मुँह बंद कर दिया और नीचे से लंड अंदर डालने लगा. कुछ देर बाद मेरा फिर से खड़ा हुआ तो मैंने कहा- हो जाये एक और राउंड?उसने साफ मना किया और कहा- अगली बार करेंगे! मुझे लेट हो रहा है.

शादी में भाभी की चाची की बहन जो कि बहुत ही सुंदर, सेक्सी, स्मार्ट, जैसे किसी ने माधुरी दीक्षित की कॉपी ला के खड़ी कर दी हो, जैसी लग रही थी.

मैंने डिसाइड किया कि गाण्ड ही मरवा लेती हूँ। मुझे पता था कि गाण्ड की गली चूत से भी टाइट होती है. हुमा कुरैशी की सेक्सी फोटोमेरी उंगलियाँ अब उनकी ब्रा की पट्टी को बार बार छू रही थीं और मीना जी मुझसे इधर उधर की बात कर रही थीं. मराठी सेक्स स्टोरीएससंपादक- संदीप साहूलेखक- रोनित रायनमस्कार दोस्तो, उम्मीद है कि आपके लंड और चूत को मुझसे निराशा नहीं हुई होगी।इस हिंदी एडल्ट स्टोरी के पिछले भागमामा से चुदाई की भानजी की व्यथा कथा-1नेहा की मामा के साथ चुदाई के लिए भूमिका बन चुकी है, अब उसकी चुदाई का आनन्द लीजिए. वो दिखने में बहुत सुन्दर थी, जो भी उसे देख लेता, तो वो देखता ही रह जाता था.

दोस्तो, उम्मीद है आप अपनी कल्पना के सहारे वो फील कर रहे होंगे, जैसा मैं उस वक़्त महसूस कर रहा था.

मैं समझ गया कि दीदी गर्म होने लगी हैं, मैंने कहा- दीदी, मुझे आपसे किस करके बहुत अच्छा लग रहा है. उन दिनों काम की वजह से भाई रात को देर से आते थे और कभी कभी उन्हें अपनी साईट पर 2-3 दिन रहना भी पड़ता था. वे मेरी चुचियों को अपने दोनों हाथों से मसलने लगे, मसल मसल कर उन्होंने मेरी चूचियों को पहले तो नर्म कर दिया, फिर वासना से उत्तेजित होकर मेरी चूचियाँ और मेरे निप्पल सख्त हो गए.

यदि मुझे आपको बोलना होता कि आप दे दो, तो मैं अपने दोस्त के लिए थोड़ी बात करता. मैंने देखा कि मेरी बड़ी ताई संगीता और गुरप्रीत सिंह जी बातें कर रहे थे. दोस्तो मैं बता नहीं सकता कि मधुर मिलन की कल्पना से ही मेरा रोम रोम रोमांचित हो रहा था और सच कहूँ तो मेरी फट भी रही थी क्योंकि किसी लड़की के घर जाकर उसे चोदना, ऐसा मेरे साथ पहली बार होने वाला था, पर मैं पूरे विश्वास से लबरेज था कि जो होगा सही होगा, कुछ दारू भी हिम्मत बढ़ा रही थी.

देवर भाभी की बीएफ वीडियो हिंदी

उन्होंने कहा- मैं आपके आगे बैठ जाती हूँ, ताकि आपको मालिश में आसानी हो. मुझे हल्की हल्की नींद आने लगी थी तो भाभी ने मुझसे बोला- एक जादू दिखाऊं?तो मैं बोला- दिखाओ. दस मिनट बाद मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने पूछा कि किधर निकालूँ?तो चाची ने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और बोलीं- चुत की प्यास बुझा दो राजा.

मैंने अपने दोनों हाथों से उनके हाथों को जोर से पकड़ लिया ताकि वे हिल न सकें और अपनी पूरी ताकत से एक जोर का धक्का उनकी चुत में लगा दिया.

अब मुझसे रुका नहीं गया तो मैं अपनी जीभ निकाल कर उसकी चूत के बाह्य विशाल लबों को चाटने लगा.

बॉस- नेहा बेबी जब तुम बांहों में रहोगी तब कोई नहीं आएगा, टेंशन मत लो. मैंने देखा कि सपना के मुलायम से गोल गोल मम्मों के बीचों बीच मेरा कन्धा फंसा था. देसी सेक्सी वीडियो फर्स्ट टाइमअब तो रात में हम दोनों मोबाइल पर भी मैसेज और कॉल लगा कर बात करने लगे.

अब मैं भी सिर्फ अंडरवियर में था, चाची ने मेरा लंड हाथ में लेकर दबाना शुरू कर दिया. मैंने चाची की दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और एक ही झटके में अपना आधा लंड चाची की चुत में बाड़ दिया. ”फिर एक दिन उसने मुझे अन्तर्वासना की साइट के बारे में बताया और मैं रोज कहानियाँ पढ़ने लगी। इसमें बहुत सी कहानियाँ मेरी जैसी लड़कियों की थीं.

हर एक करारे धक्के की साथ वो कहता गया- बड़ी कुत्ती चीज है तू छोरी। एक नंबर की रांड है तू. कुछ देर बाद उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में घुसा दी, मैंने भी उसकी जीभ का जी भर कर रसपान किया.

उसके बाद से तो मैं भाभी के साथ ही दिन-रात सोता था और चुदाई का मज़ा लेता रहा, जब तक सुरेंदर भैया नहीं आ गए.

अगली सुबह उनके घर के सामने एक गाड़ी खड़ी हुई और दीक्षा के माँ बाप और सेक्सी बहन बैठ कर चले गए. दीदी की चल ऎसी है जैसे कोई सेना का अफसर चल रहा हो!पिछले 3-4 महीने से दीदी अक्सर देर से घर आती थीं. यह सारा चुदाई का प्रोग्राम आधे घंटे तक चलता रहा, तब कहीं जाकर मेरा पानी निकला.

सेक्सी पिक्चर मूवी दिखाओ उसके मुँह से कोई चीख नहीं निकली, बस आँखों में ढेर सारे आंसू और मम्मी मम्मी. सबसे पहले आप सभी को थैंक्स कहना चाहती हूँ कि आप लोगों ने मेरी पिछली हिंदी सेक्स स्टोरीपड़ोसी ने मुझे फंसा कर मेरी चूत की पहली चुदाई कीलवर के दोस्त के बड़े लंड से चुद कर मजा आयाको इतना पसंद किया और मुझे आप लोगों की मेल भी मिली.

मैं- फिर तो दीदी मैं ही सील खोलूँगा आपकी गान्ड की…दीदी- ना बाबा, मुझे मरना नहीं है, चूत की चुदाई करनी है, तो ठीक लेकिन गान्ड को हाथ भी नहीं लगाने दूँगी. शायद उन्हें भी पता था कि मेरा ध्यान उन्हीं पर है, इसलिए वो जानबूझ कर ऐसी हरकतें करती थीं, जिससे मेरा ध्यान उन पर जाए. ये सब बातें मुझे बाद में पता लगी थीं कि मेरे जाने के बाद वहां क्या हुआ था.

सेक्सी सेक्सी बीएफ एक्स एक्स

ये ससुरी ना दुखती… इसे तो लंड से जितना मारो पीटो… उतनी ही ज्यादा खुश होती है बेशरम!” बहूरानी जी खनकती हुई हंसी हंसी. मैंने काफी जगह अपने रेज़्यूमे दिए थे, जिस वजह से मुझे कुछ दिन बाद एक मधुरा नाम की लड़की ने फोन किया. शादी के दो दिन के फंक्शन में हमारी मुलाकात की शुरूआत बहुत ही ख़राब हुई, जो भड़काऊ और झगड़ने जैसी थी.

और अब इस अवस्था में भी मेरे से आशीर्वाद ले रही हो जबकि तुम्हें अच्छी तरह पता है कि कुछ ही देर में मैं तुम्हारी चूत में अपना लंड डालकर तुम्हें जबरदस्त चोदने वाला हूँ. जैसे ही मैं सही से खड़ी हुई कि अमित तेजी के साथ ऊपर बढ़ा और उसका थोड़ा सा लंड मेरी गांड में घुस गया.

फिर मैं धीरे धीरे अपने हाथ को उनकी चूचियों की तरफ़ बढ़ाने लगा और चुची तक आकर अपने हाथ को रोक दिया, फिर हिम्मत करके उनकी चूचियों को सहलाने लगा.

तभी कमल ने अपना अंडरवियर उतार दिया, उसके लंड पर एक भी बाल नहीं था, उसने बालों को साफ किया हुआ था. मैं कुछ समझ पाती, तब तक उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रखा और जोर का झटका लगा दिया. एक दिन मैंने भाभी से कहा- आजकल आप उदास क्यों रहती हो?भाभी ने बात को टालने की कोशिश की, पर ज्यादा जोर देने पर भाभी ने बताया कि तुम्हारे भाई आजकल काम की वजह से रात को देर से आते हैं और काम की वजह से परेशान रहते हैं.

मेनका- अतुल, क्या मैं तुझे अच्छी नहीं लगती?मैं- लेकिन दीदी, आप मेरी दीदी हो!दीदी ने एक किस और की और कहा- भाई, प्यार रिश्ते नाते देख के नहीं होता, बस हो जाता है. इस बार उन्होंने मेरी बुर को छोड़ते हुए मेरी एड़ी से चूमना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद मैं उठा और अपना लंड माँ के मुँह के सामने कर दिया तो मेरी माँ ने बिना कोई देर किए मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

कैमरामैन हर तरफ से हम माँ बेटी की घूम घूम कर ब्लू फिल्म बना रहे थे.

सेक्सी बीएफ हिंदी राजस्थानी: अब मेरे चूतड़ और चूचे जैसे पहले बिना ब्रा के भी काफी कसे कसे रहते थे. जैसे ही वो घर से बाहर निकला, मैंने बहूरानी का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो वो मेरी गोद में आ गिरी.

हाँ बेटा, मैं यह कह रहा था कि अबकी तो तू एकदम बदली बदली लग रही है, तू पहले की अपेक्षा और भी ज्यादा छरहरी सी निखरी निखरी नयी नयी सी लग रही है. बेशक मंजरी की चूत भी पूरी गीली थी और पुलकित का लंड ‘पिच पिच’ की आवाज़ करता हुआ अंदर बाहर आ जा रहा था, मगर फिर भी मंजरी को काफी दर्द हो रहा था. हाँ तो मुद्दे पे आते हैं, मैं गांव आया हुआ था, गांव के लोग अपने कामों में व्यस्त थे और मैं अन्तर्वासना डॉट काम की लेखिकासीमा सिंहकी चूत पर अपना लंड हिला रहा था.

हम आपस में बात करने लगे, उसकी बातों से मुझे स्पष्ट लग रहा था कि उसकी जवानी, उसकी कामुकता उबाल ले रही है, अगर मैं पहल करूं तो वो मुझसे चुद सकती है.

दस मिनट की चुदाई के बाद आनन्द ने लिंग को बाहर निकल कर मोना की योनि के ऊपर अपने वीर्य की पिचकारी डाली. कामिनी अब गर्म हो चुकी थी, उसने बिना देर लगाए विवेक की शॉर्ट्स का हुक खोल दिया और खींचने लगी. मोना ने जोया की सलवार का नाड़ा खोल दिया और मेरी तरह दांतों से पकड़ कर सलवार को नीचे खींच दिया.